जिन बमों से कांपते हैं आंतकवादी और पाकिस्तान, उनमें मिलाया जा रहा था नकली बारूद फिर हुआ ये...

जिन बमों से कांपते हैं आंतकवादी और पाकिस्तान, उनमें मिलाया जा रहा था नकली बारूद फिर हुआ ये...
army dangerous bomb in india

Lalit Kumar Kosta | Publish: Jun, 24 2018 12:00:09 PM (IST) Jabalpur, Madhya Pradesh, India

जिन बमों से कांपते हैं आंतकवादी और पाकिस्तान, उनमें मिलाया जा रहा था नकली बारूद फिर हुआ ये...

 

जबलपुर. आयुध निर्माणी खमरिया (ओएफके) में नागपुर की निजी कंपनी के द्वारा भेजे गए एल्युमीनियम पाउडर को क्यूएएमई विभाग ने फेल कर दिया है। इस पाउडर का इस्तेमाल वायुसेना के विध्वंसक थाउजेंड पाउंडर बम में होता है। गुणवत्तापूर्ण नहीं होने के कारण ओएफके ने 8 टन से ज्यादा माल वापस कर दिया है। कंपनी के द्वारा भेजा गया सेम्पल तो टेस्ट में पास हो गया था, लेकिन जब बल्क में इसकी आपूर्ति की गई तो गुणवत्ता मानकों के अनुरूप नहीं थी।

news fact-

ओएफके ने निजी कम्पनी को वापस भेजा लॉट
थाउजेंड पाउंडर बम का 8 टन एल्युमीनियम पाउडर फेल

सूत्रों ने बताया कि पाउडर का इस्तेमाल डेंटेक्स बैच बनाने के काम में आता है। इसकी सप्लाई नागपुर की फर्म एमएमपी के द्वारा किया जाता है। बताया जाता है कि इस विशेष प्रकार के पाउडर के सप्लायर पूरे देश में केवल दो हैं। एक नागपुर और दूसरा कोलकाता में हैं। इनके पास अत्याधुनिक ऑटोमैटिक प्लांट हैं। पाउडर को करीब दस दिनों पूर्व ओएफके भेजा गया था। यह सीधे रूप में बारूद नहीं है, लेकिन बम के अंदर अत्यधिक उष्मा पैदा करने के काम में आता है। जानकारों ने बताया, बम का फ्यूज जब किसी टारगेट पर टकराता है तब बारूद तक उष्मा पहुंचाने में यह पाउडर सहायक होता है। यह ए-ग्रेड का होता है। यदि थोड़ी कमी भी हुई तो इस्तेमाल करना खतरनाक होता है।

इस्तेमाल होता तो....
जानकारों का कहना है कि कई बार इस तरह का माल फैक्ट्री में आ जाता है। एेसे में जब उसका उपयोग बमों में कर दिया जाता है और सेना जब उसका इस्तेमाल करती है तो लॉट तक फेल कर देती है। ओएफके के पास अभी थाउजेंड पाउंडर बम प्रमुख उत्पाद के रूप में है। यहां रोजाना १ टन से ज्यादा एल्युमीनियम पाउडर की खपत है।

नागपुर की कम्पनी एमएमपी ने एल्युमीनियम पाउडर की सप्लाई की थी। वह गुणवत्तापूर्ण नहीं था। वापस कर सुधार के लिए कहा गया है।
- एके ठाकुर, अपर महाप्रबंधक ओएफके

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned