script फॉरेंसिक विभाग : वार्ड से लेकर पोस्टमार्टम रूम तक बदलेगी व्यवस्था | Arrangements will change from ward to post mortem room | Patrika News

फॉरेंसिक विभाग : वार्ड से लेकर पोस्टमार्टम रूम तक बदलेगी व्यवस्था

locationजबलपुरPublished: Dec 24, 2023 07:35:35 pm

Submitted by:

prashant gadgil

मेडिकल कॉलेज में एमसीआई की गाइडलाइन के अनुसार बनेगा सेटअप

 

medical_students.jpg
medical

जबलपुर . मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस की सीट 180 से बढ़कर 250 हो गई हैं। अब भारतीय चिकित्सा परिषद यानी एमसीआई की गाइडलाइन के अनुसार सेटअप को अपडेट किया जाएगा। अभी मेडिकल कॉलेज अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए पीएम टेबल नहीं है। फारेंसिक विभाग में पुराने टूटे-फूटे प्लेटफार्म पर शवों का पोस्टमार्टम किया जाता है। उच्च शिक्षा विभाग से कॉलेज प्रशासन ने तीन पोस्टमार्टम टेबल की मांग की है। स्वीकृति तो मिल गई है पर आना बाकी है। फॉरेंसिक डिपार्टमेंट में प्रतिदिन बड़ी संख्या में शवों का पीएम होता है।

बनेगा डेमोंस्ट्रेशन हॉल

एमबीबीएस के कोर्स में छात्रों को शवों के पोस्टमार्टम का लाइव डिमोंस्ट्रेशन भी शामिल है। इससे उनकी प्रायोगिक पढ़ाई कराई जाती है। 250 छात्रों के लिए डेमोंस्ट्रेशन हॉल तैयार किया जा रहा है। मेडिकल कॉलेज परिसर में िस्थत मेडिकल यूनिवर्सिटी के पुराने भवन में फॉरेंसिंक विभाग का विस्तार हो रहा है। विभाग को मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया की गाइडलाइन के अनुसार विस्तार दिया जा रहा है। इस जगह का उपयोग पॉइजन इन्फॉरमेशन सेंटर विकसित करने के लिए होगा। ये सेंटर कनसल्टेंसी सर्विस देने का काम करेगा। ग्रामीण क्षेत्र की पीएससी, सीएससी या अन्य नर्सिंग होम से लेकर शहर के अस्पतालों में कोई पॉइजन का केस आता है तो पाॅइजन इन्फॉरमेशन सेंटर के विशेषज्ञों से फोन पर परामर्श लिया जा सकता है। इससे मरीज को तत्काल सहायता मिलेगी। फॉरेंसिक डिपार्टमेंट में प्रतिदिन बड़ी संख्या में शवों का पीएम होता है।

इनका कहना है

एमसीआई की गाइडलाइन के अनुसार फारेंसिक विभाग को अपडेट किया जा रहा है। यहां पाॅइजन इन्फॉरमेशन सेंटर भी स्थापित होगा।

डॉ. विवेक श्रीवास्तव, विभागाध्यक्ष, फॉरेंसिक विभाग, मेडिकल कॉलेज अस्पताल

ट्रेंडिंग वीडियो