scriptAttention is needed more than ever in stressful times | Osho Ashram : तनावपूर्ण युग में ध्यान की आवश्यकता पहले से ज्यादा है | Patrika News

Osho Ashram : तनावपूर्ण युग में ध्यान की आवश्यकता पहले से ज्यादा है

locationजबलपुरPublished: Oct 16, 2022 07:41:49 pm

Submitted by:

praveen chaturvedi

ओशो आश्रम में मां अमृत प्रिया व स्वामी शैलेंद्र सरस्वती ने कहा ओशो ने रेचन को ध्यान विधियों में जोड़ा

Attention is needed more than ever in stressful times
Attention is needed more than ever in stressful times

जबलपुर। आज के तनावपूर्ण युग में ध्यान की आवश्यकता पहले से ज्यादा हो गई है। पहले शिक्षा कम थी, मन में विचारों का प्रवाह कम था, लोगों के पास कम और सीमित जानकारी थी। उलझन, महत्वाकांक्षाएं भी कम थीं। इसके अनुपात में तनाव भी कम था। शारीरिक श्रम करना पड़ता था, जो तनाव से छुटकारा दिलाता था। जिंदगी निश्चित दिशा में गति करती थी। विकल्प नहीं थे इसलिए मन में चंचलता कम थी। तनाव की व्याधि क्रमश: बढ़ती ही गई है, तो औषधि की मात्रा भी बढ़ानी जरूरी है। इन बदलावों को देखते हुए अध्यात्म साधना के क्षेत्र में ओशो ने आधुनिक मनुष्य के लिए ध्यान विधियों में बहुत से परिवर्तन किए हैं। उन्होंने ध्यान की विधियों में रेचन को जोड़ा। ये बात मां अमृत प्रिया व स्वामी शैलेन्द्र सरस्वती ने रविवार को ओशो आश्रम शैलपर्ण उद्यान में कही।

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.