अयोध्या राम मंदिर के लिए विशेष शिलाएं तैयार, शंकराचार्य ने किया बड़ा ऐलान

अयोध्या राम मंदिर के लिए विशेष शिलाएं तैयार, शंकराचार्य ने किया बड़ा ऐलान
अयोध्या राम मंदिर के लिए विशेष शिलाएं तैयार

Prem Shankar Tiwari | Publish: Jan, 24 2019 05:16:24 PM (IST) Jabalpur, Jabalpur, Madhya Pradesh, India

शंकराचार्य मठ में हुआ शिलाओं का पूज शंकरचार्य रखेंगे नींव

जबलपुर। सिविक सेंटर स्थित शंकराचार्य मठ में हिंगलाज सेना के कार्यकर्ताओं ने श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए शिलाओं का पूजन किया। इन शिलाओं को स्वामी गोविंदानंद सरस्वती पम्पापुर क्षेत्र के किशकिंदा से लेकर आये हैंं। पूजन के बाद कार्यकर्ताओं का दल शिलाओं को लेकर प्रयागराज कुम्भ के लिए रवाना हुआ। शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण का शुभारम्भ करने की घोषणा की है।

मंदिर में लगेंगी ये शिलाएं
सेना के अध्यक्ष स्वामी चैतन्यानंद ने कहा, प्रयागराज में 26 जनवरी से तीन दिवसीय धर्मसभा होगी। कुम्भ मेला में शिलाओं को दर्शनार्थ रखा जाएगा। उसके बाद पूजित शिलाओं को मंदिर निर्माण के लिए अयोध्या ले जाने की तैयारी है। पांच शिलाओं में पहली शिला का नाम भद्रा, दूसरी जया, तीसरी पूर्णा, चौथी नंदा और पांचवी शिला का नाम किष्किंधा श्रीराम हनुमान शिला है। शिला पूजन में नूतन पांडे, कमलेश शास्त्री, ब्रजेश दुबे, मनोज पाटकर, सागर नायक, बीके पटेल, आशीष श्रीवास्तव, आयुष गुप्ता, वसुंधरा पांडे एवं मीडिया प्रभारी मनोज सेन मौजूद थे।

रोक सकें तो रोक कर देंखे
उल्लेखनीय है कि शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने राम मंदिर के निर्माण के लिए बड़ा एलान कर दिया है। शंकराचार्य ने कहा है कि कोई भी राजनीतिक पार्टी अयोध्या में राम मंदिर नहीं बना सकती क्योंकि हमारे देश का संविधान धर्मनिरपेक्ष है। इस वजह से राजनीतिक पार्टियां मंदिर के निर्माण का काम नहीं कर सकतीं। पत्रिका को दिए विशेष इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि हम खुद राम मंदिर के लिए शिलान्यास करेंगे और मंदिर बनाएंगे। यदि हमें कोई रोकेगा तो पता चलेगा कि उस पार्टी की असलियत क्या है। शंकराचार्य ने कहा कि उन्होंने मंदिर बनाने के लिए एक समिति का गठन भी कर लिया गया है। यही समिति मंदिर का निर्माण कराएगी। शंकराचार्य ने चेतावनी दी है कि वह मंदिर बनाएंगे यदि कोई रोक सकता है तो रोक कर देख ले।

धर्म संसद में होगा निर्णय
द्वारिका एवं ज्योतिष पीठाधीश्वर शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने बताया कि प्रयागराज में 28 जनवरी से धर्म संसद का शुभारंभ होगा। इसका समापन 30 जनवरी को होगा। धर्म संसद में देश भर से आए संत व प्रबुद्धजन शामिल होंगे। इस दौरान राम मंदिर निर्माण समेत सनातन धर्म से जुड़े कई मसलों पर चिंतन-मंथन किया जाएगा। यहां संतों से चर्चा के उपरांत स्वामी स्वरुपानंद सरस्वती के साथ संतों का एक प्रतिनिधि मंडल अयोध्या के लिए कूच कर जाएगा। शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती फिलहाल यहां गोटेगांव झोंतेश्वर स्थिति मणिदीप में रुके हुए हैं। उल्लेखनीय है कि इस मसले पर कुछ समय पूर्व उन्होंने अयोध्या आए स्वामी राघवाचार्य से भी मंत्रणा की। महाराजश्री का आशीर्वाद लेते हुए स्वामी राघवाचार्य ने भी राम मंदिर के निर्माण के लिए पहल का संकल्प दोहराया था।

ये चार शिलाएं तैयार
झोंतेश्वर में चर्चा के दौरान शंकराचार्य ने बताया कि श्रीराम मंदिर के निर्माण के लिए चार शिलाएं तैयार हो गई हैं। इनका नाम नंदा, भद्रा, जया और पूर्णा रखा गया है। धर्म संसद के बाद प्रयाग राज से उनकी अगुवाई में संत इन्हीं शिलाओं को लेकर अयोध्या प्रस्थान करेंगे। उनके साथ राम भक्तों का बड़ा प्रतिनिधि मंडल भी शामिल रहेगा।

उधर भी कड़ी चेतावनी
उल्लेखनीय है कि राम मंदिर निर्माण के मसले पर अन्य संतों ने भी मोर्चा सम्हाल लिया है। कई संतों ने तो राजनीतिक दलों तक को आड़े हाथों ले लिया है। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष मंहत नरेंद्र गिरी ने भी एलान कर दिया है कि यदि अयोध्या में कुंभ मेले से पहले राममंदिर निर्माण पर फैसला नहीं हुआ, तो नागा संन्यासी अयोध्या के लिए कूच करेंगे। महंत ने कहा है कि कुंभ मेले में होने वाली विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) की धर्म संसद में देश भर से जुटे साधु संत राम मंदिर के निर्माण पर विचार-विमर्श करेंगे। यहीं पर मंदिर निर्माण के लिए पहल का निर्णय लिया जाएगा।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned