scriptbadi khermai mandir, siddh tantrik mandir in india | इस देवी की पूजा के बाद मुगलों से जीते कल्चुरी राजा, आज भी तंत्र साधना का मुख्य केन्द्र- देखें वीडियो | Patrika News

इस देवी की पूजा के बाद मुगलों से जीते कल्चुरी राजा, आज भी तंत्र साधना का मुख्य केन्द्र- देखें वीडियो

इस देवी की पूजा के बाद मुगलों से जीते कल्चुरी राजा, आज भी तंत्र साधना का मुख्य केन्द्र

जबलपुर

Updated: April 06, 2022 02:45:25 pm

जबलपुर। वैसे देश प्रदेश और शहर में ऐसे सैकड़ों मठ मंदिर मिल जाएंगे जिनका अपना इतिहास और आस्था की वजह है, लेकिन जबलपुर की बड़ी खेरमाई माता का मंदिर न केवल अपने आप में आस्था का प्रमुख केन्द्र है, बल्कि इसका इतिहास भी बहुत रोचक बताया जाता है। नवरात्र पर यहां हजारों की संख्या में लोग सुबह से देर रात तक पहुंचते हैं। ऐसा कहा जाता है कि इसका इतिहास कल्चुरी काल यानि करीब 800 साल पुराना है। गोंड शासन काल के दौरान जब मुगल सेना ने उन्हें परास्त कर दिया तो वे यहां आकर रूके और शिला रूपी देवी का पूजन किया। पूजन के बाद उन्होंने दोबारा मुगलों से युद्ध लड़ा और विजयी हुए। वहीं 500 वर्ष पूर्व गोंड राजा संग्राम शाह ने यहां प्रतिमा की स्थापना कर मढिय़ा बनवाई थी। शहर की सबसे प्रसिद्ध शक्तिपीठ मां बड़ी खेरमाई को मां दुर्गा की गुप्त शक्तिपीठों में भी माना जाता है।

badi khermai mandir
badi khermai mandir

बड़ी खेरमाई मंदिर जबलपुर की प्रमुख ग्राम देवी के रूप में पूजी जाती हैं, आज भी साधकों की लगती है कतार

तंत्र साधना स्थली रही
इतिहासकारों के अनुसार गांव खेड़ों की पूज्य देवी को खेड़ा कहा जाता था, जो कि बोल चाल की भाषा में अब खेरमाई कहलाने लगा है। बड़ी खेरमाई का पूजन आज भी ग्राम देवी के रूप में किया जाता है। एक समय यहां बलि प्रथा भी होती थी, तंत्र विद्या के लिए बड़े बड़े साधक आते थे। वहीं पूरे मंदिर परिसर में आधा सैकड़ा मंदिर हैं जो किसी ने किसी तंत्र पूजा से जुड़े हैं।

सोमनाथ की तर्ज पर नया मंदिर
पुराना मंदिर समय के साथ जर्जर व छोटा पडऩे लगा था, जिसके बाद प्रबंधन समिति ने यहां सोमनाथ मंदिर की तर्ज पर नया मंदिर बनवाया है। सबसे बड़ी बात ये कि बिना गर्भगृह की प्रतिमाओं हटाए करीब ढाई साल में नए मंदिर का निर्माण कराया गया है। इसकी खासियत है कि ये सोमनाथ मंदिर की तर्ज पर बना है। इसमें कहीं पर लोहा सरिया का उपयोग नहीं किया गया है। इसका निर्माण गुजरात के रहने वाले उसी सोमपुरा परिवार ने किया है जिसने सोमनाथ मंदिर बनाया है और अभी राम मंदिर अयोध्या का निर्माण कर रहे हैं। पूरा मंदिर पत्थरों की लॉकिंग सिस्टम से खड़ा किया गया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

जयपुर में एक स्वीमिंग पूल में रात का सीसीटीवी आया सामने, पुलिसवालें भी दंग रह गएकचौरी में छिपकली निकलने का मामला, कहानी में आया नया ट्विस्टइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलचेन्नई सेंट्रल से बनारस के बीच चली ट्रेन, इन स्टेशनों पर भी रुकेगीNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयधन कमाने की योजना बनाने में माहिर होती हैं इन बर्थ डेट वाली लड़कियां, दूसरों की चमका देती हैं किस्मतCBSE ने बदला सिलेबस: छात्र अब नहीं पढ़ेगे फैज की कविता, इस्लाम और मुगल साम्राज्य सहित कई चैप्टर हटाए

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: क्या फ्लोर टेस्ट में बच पाएगी MVA सरकार! यहां समझे पूरा गणितMaharashtra Political Crisis: शिवसेना में बगावत के बाद अब उपद्रव का डर! पोस्टर वॉर के बीच एकनाथ शिंदे के गढ़ ठाणे में धारा 144 लागूMaharashtra Political Crisis: नवनीत राणा ने की महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग, बोलीं- उद्धव ठाकरे की गुंडागर्दी खत्म होनी चाहिएBPSC Paper Leak: पेपर लीक मामले में गिरफ्तार हुए JDU नेता शक्ति कुमार, सबसे पहले पेपर स्कैन कर WhatsApp पर था भेजाAmarnath Yatra: अमरनाथ यात्रा से 4 दिन पहले प्रशासन अलर्ट, सुरक्षा व्यवस्था को लेकर उठाया बड़ा कदमMumbai News Live Updates: ठाणे के बाद अब मुंबई में धारा 144 लागू, बागी एकनाथ शिंदे के आवास की भी बढ़ाई गई सुरक्षाMaharashtra Political Crisis: एक्शन में शिवसेना! अयोग्य करार देने के लिए डिप्टी स्पीकर को भेजा 4 और MLA के नाम, 16 बागियों पर भी कार्रवाई की तैयारीAmit Shah on 2002 Gujarat Riots: गुजरात दंगों पर SC के फैसले के बाद बोले अमित शाह, PM मोदी को इस दर्द को झेलते हुए देखा है
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.