बैसाख माह 2019: पुण्य कमाने का श्रेष्ठ महीना, कट जाएंगे पाप, मिलेगी कष्टों से मुक्ति

बैसाख माह 2019: पुण्य कमाने का श्रेष्ठ महीना, कट जाएंगे पाप, मिलेगी कष्टों से मुक्ति

By: Lalit kostha

Updated: 21 Apr 2019, 12:37 PM IST

जबलपुर। हिन्दू धर्म में हर महीने का अपना महत्व है। पुण्य कमाने से लेकर पितरों की मुक्ति और पूर्वजों के आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए वैदिक उपाए भी बताए गए हैं। ऐसे ही माह का नाम बैसाख है, जिसमें पूरे तीस दिन तक पुण्य ही पुण्य प्राप्ति का योग रहता है। स्नान दान से लेकर धार्मिक अनुष्ठानों के लिए ये महीना बहुत ही पवित्र माना गया है।

इस सप्ताह इन लोगों की किस्मत सूर्य से तेज चमकने वाली है, लक्ष्मी जी खुद आ रहीं इनके दरवाजे

news facts-

हिन्दी पंचांग में पुण्यार्जन के लिए बैसाख माह उत्तम
बैसाख माह की साधना शुरू, तीर्थों में स्नान और अनुष्ठान होंगे फलदायी

सनातन धर्म पंचांग के अनुसार हिन्दी कैलेंडर में वर्ष का दूसरा माह बैसाख पुण्यार्जन के लिए उत्तम माना गया है। शनिवार से बैसाख शुरू होते ही बड़ी संख्या में लोग सूर्योदय से पहले नर्मदा नदी सहित अन्य पवित्र तीर्थों में स्नान और धार्मिक अनुष्ठान के लिए पहुंचे। इस माह भगवान विष्णु, शिव की उपासना विशेष फलदायी होती है। पर्वों पर किए जाने वाले धार्मिक अनुष्ठान और दान-पुण्य भी फलदायी होते हैं।

lok sabha 2019 special: इस गांव में नहीं होती बेटियों की शादी, ये सरकारी नियम बना है रोड़ा!

ज्योतिर्विद् जनार्दन शुक्ला के अनुसार हिन्दी पंचांग में चार माह सावन, कार्तिक, माघ और बैसाख धार्मिक कार्यों के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। लोग एक माह तक सूर्योदय से पूर्व स्नान के बाद उपासना करते हैं। बेल पत्र से भगवान शिव का अभिषेक, विष्णु सहस्त्रनाम पाठ, तुलसी से भगवान विष्णु का पूजन, फलों का दान या ऊं भगवते वासुदेवाय नम: मंत्र का जप प्रतिदिन 12 माला करना कल्याणकारी होता है। बैसाख महीने में यज्ञ और अनुष्ठान ज्यादा फलदायी होते हैं। बैसाख माह में भी भगवान विष्णु के अवतार नरसिंह प्राकट्योत्सव और भगवान परशुराम प्राकट्योत्सव अक्षय तृतीया मनाई जाएगी। एकादशी, पूर्णिमा और अमावस्या आदि तिथियों में विशेष अनुष्ठान किए जाएंगे। जरूरतमंदों को दान या सेवा कार्य में योगदान करने से पुण्य अर्जित किया जा सकता है। बैसाख माह में प्रमुख शिवालयों और भगवान विष्णु के मंदिरों में बड़ी संख्या में लोग पूजन करते हैं।

Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned