scriptbecoming a fake notary | फर्जी नोटरी बनकर सहायक आयकर आयुक्त के शपथ पत्र पर लगाई मोहर | Patrika News

फर्जी नोटरी बनकर सहायक आयकर आयुक्त के शपथ पत्र पर लगाई मोहर

जबलपुर के कोतवाली थाना क्षेत्र में जालसाजों के विरुद्ध प्रकरण दर्ज

 

जबलपुर

Updated: December 07, 2021 08:32:50 pm

जबलपुर। बलदेवबाग स्थित एक ऑनलाइन रजिस्ट्री एवं सेवा प्रदाता में जालसाज फर्जी नोटरी कर रहे है। ये फर्जीवाड़ा लखनऊ कोर्ट में पेश दस्तावेज से हुआ है। जबलपुर शहर के रहने वाले सहायक आयकर आयुक्तने घरेलू हिंसा के मामले में कोर्ट में शपथ पत्र प्रस्तुत किया। बलदेवबाग से आयकर आयुक्तने नोटराइज कराया। इस पर जालसाजों ने फर्जी सील-साइन कर नोटराइज पत्र जारी कर दिया। ये फर्जीवाड़ा कोर्ट में पकड़े जाने के बाद आयकर अधिकारी ने कोतवाली थाने में जालसाजों के विरुद्ध प्रकरण दर्ज कराया। कोतवाली पुलिस के अनुसर गांधीगंज निवासी प्रियंक जैन अभी मुंबई स्थित अंतर्राष्ट्रीय कराधन सर्किल-2 में सहायक आयकर आयुक्त हैं। उनका लखनऊ निवासी पत्नी के साथ घरेलू हिंसा का प्रकरण न्यायालय में है। इसी प्रकरण में लखनऊ कोर्ट में अपनी आय एवं अन्य जानकारियों का शपथ पत्र प्रस्तुत करना था। इसके लिए 28 अगस्त को बलदेवबाग स्थित एसआर ऑनलाइन रजिस्ट्री एवं सेवा प्रदाता (आरएस प्रॉपर्टीज) से शपथ पत्र बनवाया था। इसे कोर्ट में पेश करने पर पत्नी के अधिवक्ता ने शपथ पत्र की वैधानिकता को चुनौती दी। इसकी छानबीन की गई तो फर्जीवाड़ा सामने आया।
यह है स्थिति
- 28 अगस्त, 2021 को बलदेवबाग से शपथ पत्र की प्रक्रिया हुई।
- 2 सितंबर, 2021 को नोटराइज शपत्र पत्र बनाकर दिया गया था।
- 29 अक्टूबर, 2021 को लखनऊ कोर्ट में वैधानिकता को चुनौती।
- 6 दिसंबर, 2021 को कोतवाली थाना में प्रकरण दर्ज हुआ।

police
police

शिकायत में कहा गया है
आयकर अधिकारी के अनुसार आरएस ऑनलाइन में नोटराइज पत्र के लिए प्रोपाइटर सुमित जैन ने स्टाम्प पेपर उपलब्ध कराया था। इसके लिए ममता जैन अधिकृत है, जो सुमित की मां है। सुमित ने दुकान में बैठने वाले आनंद मोहन चौधरी से परिचय कराया था कि वे नोटरी का काम करते है। उस दिन आनंद मोहन ने स्टाम्प पर टिकट लगाया। दिनांक, नाम और नोटरी की मुहर लगाई थी। रजिस्टर में हस्ताक्षर भी कराए थे। प्रियंक के भाई मयंक के अनुसार आरएस ऑनलाइन कार्यालय में जाने पर पता चला कि वहां आनंद मोहन के नाम से प्रतीक जैन नोटराइज का काम करता है। इसके एवज में आनंद मोहन को प्रति माह 10 हजार रुपए भुगतान करता है। बदले में आनंद मोहन उसे अपना नाम एवं मोहर का उपयोग करने देता है। आयकर अधिकारी प्रियंक जैन की शिकायत पर पुलिस ने आरएस प्रॉपर्टीज के प्रोप्राइटर सुमित जैन, आनंद मोहन चौधरी और प्रतीक जैन के विरुद्ध कूटरचित दस्तावेज तैयार करने और फर्जीवाड़े का प्रकरण दर्ज किया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोगशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेइन 12 जिलों में पड़ने वाल...कोहरा, जारी हुआ यलो अलर्ट2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.