चार जुलाई को निकलेगी भगवान जगन्नाथ स्वामी की रथयात्रा, यात्रा में निकलेंगे 11 रथ

भगवान जगदीश मंदिरों में शुरू हुई रथयात्रा की तैयारियां

By: abhishek dixit

Published: 01 Jul 2019, 07:55 AM IST

जबलपुर. संस्कारधानी के भगवान जगन्नाथ स्वामी के मंदिरों में रथयात्रा की तैयारियां की जा रही है। भगवान के मंदिरों सहित प्रमुख संस्थाओं की ओर से 11 रथ निकाले जाएंगे। आयोजन समितियों ने जगन्नाथपुरी की तर्ज पर रथयात्रा निकालने की तैयारियां की है। बड़े फुहारा पर 11 रथों का संगम होगा, उसके बाद संतों के सान्निध्य में प्रतीकात्मक स्वर्ण जडि़त झाडू से सड़क साफकर रथयात्रा निकाली जाएगी।

संस्कारधानी में आस्था और उत्साह के साथ रथयात्रा निकाली जाती है। जगन्नाथ के भात को जगत पसारे हाथ... के भाव से रथ खींचने के साथ लोग प्रसाद ग्रहण करते हैं। जगदीश मंदिर गढ़ा फाटक, हनुमानताल एवं गढ़ा फाटक सहित अन्य संस्थाओं में मंदिरों एवं रथों की रंगाई पुताई की जा रही है। सिटी बंगाली क्लब करमचंद चौक की ओर धूमधाम से रथयात्रा निकाली जाती है। मंदिर के पुजारी रामानंद त्रिपाठी ने बताया, इन दिनों में मंदिर के पट बंद हैं।भगवान को औषधियों का भोग लगाया जा रहा है। 100 शंखों की ध्वनि के साथ रथयात्रा शुरू होगी। कई संकीर्तन मंडलियां रथयात्रा में शामिल होगी। श्री सनातन धर्म महासभा के शरद काबरा ने बताया, संस्कारधानी की रथयात्रा में 11 रथों का संगम होगा, सभी रथ एक साथ निकलेंगे जिसमें श्रद्धालु भगवान का दर्शन करेंगे।

100 शंखों के शंखनाद से होगा शुभारंभ
जगदीश मंदिर गढ़ाफाटक में 4 जुलाई को दोपहर 12 बजे 100 शंखों के शंखनाद के साथ भगवान की रथयात्रा प्रारंभ होगी। रथयात्रा में इस्कान मंदिर के 400 साधक संकीर्तन करते हुए चलेंगे। जगन्नाथ के भात को जगत पसारे हाथ... की आस्था के साथ प्रसाद प्राप्त करने के लिए सड़कों पर आस्था उमड़ती है। जगदीश मंदिर हनुमान ताल के राजेंद्र सराफ ने बताया, 250 वर्ष पुराने मंदिर में जगन्नाथपुरी की तर्ज पर उपासना की जा रही है। इसी प्रकार अन्य मंदिर व संस्थाओं की झांकी बड़ा फुहारा में जाएगी, वहां मुख्य रथयात्रा शुरू होगी।

11 संत करेंगे महाआरती, लगाएंगे झाड़ू
बड़ा फुहारा में रथों में विराजमान भगवान के रथों दर्शन करने के लिए हजारों लोग जाएंगे। 11 संतों के सान्निध्य में सभी रथों में भगवान की महाआरती की जाएगी। जबकि, जगन्नाथपुरी की तर्ज पर सोना जडि़त प्रतीकात्मक झाड़ू से रथयात्रा का मार्ग साफ किया जाएगा।

abhishek dixit
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned