दर्जनों मजदूर कर रहे थे काम और ट्रॉला से गिर गयी १२० टन की बीम, मच गया कोहराम

उस वक्त बड़ा हादसा टल गया, जब ट्रॉला पर लोड १२० टन वजनी अचानक बीम गिर गई

By: deepak deewan

Published: 24 May 2018, 01:38 PM IST

जबलपुर. तिलवाराघाट पर एनएच-७ के लिए निर्माणाधीन ब्रिज पर बुधवार को उस वक्त बड़ा हादसा टल गया, जब ट्रॉला पर लोड १२० टन वजनी अचानक बीम गिर गई। बीम गिरने की आवाज सुन वहां काम कर रहे मजदूरों में हड़कम्प मच गया। हालांकि घटना में कोई जख्मी नहीं हुआ। एनएचएआई के अधिकारियों ने मामले की जांच शुरू कर दी है। जानकारी के अनुसार तिलवाराघाट पर एलएनटी की ओर से ब्रिज का निर्माण कराया जा रहा है। ब्रिज पर लगाने के लिए बुधवार को १२० टन वजनी रेडीमेट बीम टॉला से ले जाई जा रही थी। निर्माण स्थल पर बीम उतारने से पहले ट्रॉला का टायर बस्र्ट हो गया। इससे तेज आवाज के साथ बीम गिर गई।


दर्जनों मजदूर कर रहे थे काम
प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार जिस समय ट्रॉला का टायर बस्र्ट हुआ, वह ढलान पर था। टायर फटने से ट्रॉला की रफ्तार थम गई, वरना हादसा गम्भीर हो सकता था। हादसे के दौरान वहां दर्जनों मजदूर काम कर रहे थे। बीम गिरने की आवाज से मजदूर दहशत में आ गए। स्थिति सामान्य होने पर ठेकेदार ने बीम को तिरपाल से ढंकवा दिया। एनएचएआई के अधिकारी मामले की जांच कर रहे हैं। प्रारंभिक जानकारी के अनुसार गार्डर गिरने की वजह उसे लेकर आए ट्रॉला का पहिया जमीन में धंसना बताया जा रहा है। गनीमत रही कि इस हादसे में कोई हताहत नहीं हुआ।


राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के तत्वावधान में तिलवारा में एक किमी. लंबा दो लेन का पुल बनाया जा रहा है। यह पुल एनएच-7 के जबलपुर-लखनादौन (सिवनी) परियोजना का हिस्सा है। इस परियोजना का ठेका एलएंडटी ने लिया है। ठेका कंपनी के श्रमिक पुल बनाने में जुटे हैं। मंगलवार की दोपहर करीब 3 बजे नए पुल के पिलर के पास तक एक गार्डर ट्राले में लादकर लाया गया। यह गार्डर क्रेन से उठाया जा रहा था कि इसी दौरान ट्राले का पिछला पहिया जमीन में धंस गया। इससे गार्डर का एक हिस्सा जमीन पर गिरा और दूसरा हिस्सा ट्राले पर ही रह गया। हादसा होते ही मजदूरों में हड़कंप मच गया। उन्होंने शोर मचाना शुरू कर दिया।

deepak deewan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned