बड़ी खबर: स्कूलों में अब एकेडमिक मॉनीटरिंग और ग्रेडिंग की नई व्यवस्था

बड़ी खबर: स्कूलों में अब एकेडमिक मॉनीटरिंग और ग्रेडिंग की नई व्यवस्था

Prem Shankar Tiwari | Publish: Oct, 13 2018 08:33:48 PM (IST) | Updated: Oct, 13 2018 08:33:49 PM (IST) Jabalpur, Madhya Pradesh, India

100 अंकों के आधार पर दिए जाएंगे नंबर

जबलपुर। सरकारी हाई और हायर सेकेंडरी स्कूलों में एकेडमिक मॉनीटरिंग और ग्रेडिंग की नई व्यवस्था को लागू किया जा रहा है। स्कूलों को 100 अंकों के आधार पर बांटकर नंबर दिए जाएंगे। स्कूल के इंफ्रास्ट्रक्चर से लेकर फैकेल्टी और संसाधानों के उपयोग को परखा जाएगा। स्कूलों में यह ग्रेडिंग हर तीन माह में की जाएगी। प्राचार्यों को एकडमिक नंबरों को ऑनलाइन फीडिंग भी करनी होगी। माना जा रहा है इस पहल से स्कूल की व्यवस्थाओं और शैक्षणिक गुणवत्ता में सुधार होगा।

सीधे प्राचार्य पर होगी कार्रवाई
जानकार सूत्रों का कहना है कि आकलन के लिए दो तरह की व्यवस्थाएं लागू की जाएंगी। इसमें शालावार ग्रेडिंग सिस्टम इस माह से शुरू किया जाएगा। स्कूलों द्वारा स्वमूल्यांकन के साथ स्कूलों का बाह्यमूल्यांकन किया जाएगा। मूल्यांकन के लिए स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा एक प्रोफार्म भी तैयार किया गया है। प्राचार्यों पर गिरेगी गाज- आकादमिक मानीटरिग और ग्रेडिंग सिस्टम को विभग ने कड़ाई से लिया है। इसका पूरा उत्तरदायित्व स्कूलके प्राचार्यों पर होगा। यदि लापरवाही बरती जाती है तो सीधे प्राचार्यों पर कार्रवाई होगी। वहीं श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले स्कूलों एवं जिलों को प्रशस्ति पत्र एवं पुरस्कार देकर सम्मानित भी किया जाएगा।

अंकों का निर्धारण
50 अंक - छात्रों की प्रगति, उपलब्धि और विकास
18 अंक - शिक्षकों का कार्य प्रदर्शन और उन्नयन
14 अंक - सीखना सिखाना और उसका आंकलन
05 अंक - शाला में उपलब्ध संसाधन एवं उपयोग
03 अंक - शाला नेतृत्व एवं शाला प्रबंधन
03 अंक - समावेश स्वास्थ्य और सुरक्षा
05 अंक - समुदाय की सहभागिता
02 अंक - अलॉटमेंट एवं शाला निधि का उपयोग

इन पर भी रहेगा फोकस
- शिक्षकों की कक्षाओं में उपस्थिति की स्थिति
- प्रयोगशाला में टाइम टेबिल के अनुसार प्रेक्टिकल की स्थिति
- एम शिक्षा मित्र का कितना उपयोग शिक्षक कर रहे
- स्कूल समय पर खुलते और बंद होने की स्थिति
- शिक्षक और छात्र के बीच संवाद की स्थिति

गुणवत्ता का प्रयास
स्कूलों में शिक्षण गुणवत्ता बढ़ाने की दिशा में विभाग सतत प्रयास कर रहा है। इसी के तहत एकेडमिक मॉनीटरिंग की नई व्यवस्था के लागू करने जा रहे हैं।
जयश्री कियावत, आयुक्त लोकशिक्षण संचालनालय

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned