मेडिकल कॉलेजों की वेबसाइट पर होगा अटेंडेंस और अन्य ब्योरा, तब मिलेगी मान्यता

मेडिकल कॉलेजों की वेबसाइट पर होगा अटेंडेंस और अन्य ब्योरा, तब मिलेगी मान्यता

Abhishek Dixit | Publish: May, 18 2019 09:09:09 AM (IST) Jabalpur, Jabalpur, Madhya Pradesh, India

भारतीय आयुर्विज्ञान परिषद ने गजट नोटिफिकेशन करके अनिवार्य किया नियम

जबलपुर. मेडिकल कॉलेजों की वेबसाइट पर अब छात्र-छात्राओं, स्टाफ की उपस्थिति का पूरा ब्योरा होगा। बायोमेट्रिक मशीन से अटेंडेंस लेकर उसे सीधे कॉलेज की वेबसाइट के होमपेज पर प्रदर्शित करने के लिए अलग लिंक का प्रावधान होगा। इस लिंक में कॉलेज में डीन एवं स्टाफ के नाम, पदनाम, शैक्षणिक योग्यता, अनुभव सहित पाठ्यक्रम, मान्यता सश्वबंधी अहम जानकारियां होंगी। यह सब वेबसाइट में होने पर ही कॉलेजों को एमबीबीएस पाठ्यक्रमों के संचालन की अनुमति होगी। इन नियमों का भारतीय आयुर्विज्ञान परिषद की ओर से गजट नोटिफिकेशन हाल ही में किया गया है। मप्र आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय ने एमसीआइ के प्रावधान को सम्बद्ध कॉलेजों में तत्काल प्रभाव से लागू करने के निर्देश दिए है।

हाइपर लिंक में ये सब होना चाहिए
- विद्यार्थियों एवं स्टाफ की बायोमेट्रिक मशीन पर दर्ज उपस्थिति।
- डीन, प्राचार्य, चिकित्सा अधीक्षक का नाम, शैक्षणिक योग्यता।
- कॉलेज में शिक्षक सहित अन्य स्टाफ का नाम सहित ब्योरा।
- कॉलेज में स्वीकृत पाठ्यक्रम और मान्यता का स्टेटस।
- एमबीबीएस और पीजी में मेरिटवार दाखिल किए गए छात्रों की सूची।
- पिछल वर्ष के दौरान किए गए शोध कार्यों का प्रकाशन।
- वर्ष में हुआ अकादमिक गतिविधि या सम्मेलन।
- छात्रों या संकाय सदस्यों की ओर से प्राप्त पुरस्कार एवं उपलब्धि
- सम्बद्धता देने वाले विवि के कुलपति एवं कुलसचिव का ब्योरा
- एक वर्ष की सभी परीक्षा के परिणाम की जानकारी।

जांच के लिए कभी भी मांगा जा सकता है रेकॉर्ड
एमसीआइ ने गजट नोटिफिकेशन करके विद्यार्थियों, शिक्षकों एवं अन्य स्टाफ की उपस्थिति नियमित रुप से दर्ज कने के लिए बायोमेट्रिक मशीन लगाना अनिवार्य किया है। बायोमेट्रिक उपस्थिति दैनिक उपस्थिति बोर्ड के रुप में मेडिकल कॉलेजों की वेबसाइट में उपलब्ध रहेगी। जरुरत होने पर जांच के दौरान या बाद में रेकॉर्ड मांगा जा सकता है। बायोमेट्रिक सिस्टम को वेबसाइट जोड़कर उपस्थिति दिखाने में गड़बड़ी होगी तो डीन के विरुद्ध कार्रवाई होगी।

विवि पहले ही कस चुका है शिंकजा
मप्र आयुर्विज्ञान विवि की ओर से छात्र-छात्राओं की उपस्थिति कक्षाओं में सुनिश्चित करने के लिए पहले की कवायद शुरू की जा चुकी है। विवि ने पिछले सत्र से सम्बद्ध कॉलेजों में विद्यार्थियों की उपस्थिति बायोमेट्रिक मशीन से दर्ज करने के निर्देश दे चुका है। हालांकि एमसीआइ के गजट नोटिफिकेशन से अब डीन को बायोमेट्रिक उपस्थित और उसके वेबलिंक को लेकर शपथ पत्र देना होगा। इससे कक्षाओं में छात्र-छात्राओं की उपस्थिति बढऩे के साथ ही स्टाफ भी समय के पाबंद होंगे।

एमसीआइ ने बायोमेट्रिक मशीन से उपस्थिति को लेकर गजट नोटिफिकेशन किया है। इसके लागू होने से मेडिकल कॉलेजों में उपस्थिति को लेकर पारदर्शिता बनी रहेगी।
- डॉ. आरएस शर्मा, कुलपति, मप्र आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned