MP विस में गूंजा भाजपा के इस बड़े नेता की गिरफ्तारी नहीं होने का मामला, खूब मचा हंगामा

भाजपा नेता द्वारा वायरल किए गए आपत्तिजक वीडियो से आहत छात्रा ने खा लिया था जहर

By: Premshankar Tiwari

Published: 09 Mar 2018, 09:12 PM IST

जबलपुर। पुलिस रिकॉर्ड में फरार एक भाजपा नेता की गिरफ्तारी में पुलिस की हीलाहवाली का मामला शुक्रवार को मध्यप्रदेश विधानसभा में गूंजा। कांग्रेस विधायक तरुण भनोत और नीलेश अवस्थी में शून्यकाल में सवाल किया कि भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नगर अध्यक्ष शफीक हीरा और उसके गुर्गों पर पुलिस ने गंभीर अपराधिक प्रकरण दर्ज किया है। लेकिन प्रकरण दर्ज होने के बावजूद उसकी गिरफ्तारी नहीं हो रही है। कांग्रेस विधायकों ने सवाल किया कि जब हीरा और उसके साथियों पर प्रकरण दर्ज कर लिया गया है, तो पुलिस द्वारा उनकी गिरफ्तारी क्यों नहीं की जा रही। इस सवाल के जरिए सत्तापक्ष को कांग्रेस ने घेरने का भी प्रयास किया है। इससे विस में काफी देर तक हंगामा हुआ।

यह है मामला
सदरुद्दीन ने हनुमानताल थाने में 26 फरवरी को एफआईआर कराई की गुलाम नवी, सररू, वसीम, शुभम और जावेद ने प्रापर्टी विवाद के चलते उसकी बाइक तोड़ी। इसके बाद शफीक जबरन उसे बाइक में बैठा हीरा ट्रांसपोर्ट ले गया। वहां उसे बंधक बना लिया गया और फिर शफीक ने उसे हंटर से पीटा और मुर्गा बनाया। पूरे घटनाक्रम का गुलाम नवी ने वीडियो बनाया। जिसे हीरा ने वॉट्सएप में वायरल करने के लिए कहा। हनुमानताल पुलिस ने मामले में छहों पर अपहरण, तोडफ़ोड़ करने, विधि विरुद्ध जमाव, मारपीट करने और जान से मारने की धमकी देने का प्रकरण दर्ज किया था। लेकिन आरोपितों की गिरफ्तारी नहीं की गई।

बेटी के जहर खाने पर खुला था मामला
सदरूद्दीन की बेटी शगुफ्ता ने वीडियो देखने के बाद जहर खा लिया था। उसे निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। तब हीरा और उसके साथियों की करतूत सामने आई थी। इसके बाद पुलिस ने आरोपितों पर प्रकरण दर्ज किया।

सत्तापक्ष का है संरक्षण
विधायक भनोत व अवस्थी ने कहा कि हीरा का सत्तापक्ष का संरक्षण है, इसलिए पुलिस उस पर हाथ डालने से बच रही है। अन्य मामलों में तत्काल अपराधियों की गिरफ्तारी करने वाली पुलिस इतने संगीन आरोप के बाद भी हीरा पर हाथ डालने से कतरा रही है। क्योंकि वह सत्ताधारी पार्टी से संबंध रखता है।

जवाब बनाने में जुटे
विधायक अवस्थी के अनुसार यदि उसकी गिरफ्तारी नहीं की गई, तो विधानसभा में हंगामा किया जाएगा। इधर पुलिस जवाब बनाने में जुटी शून्यकाल में प्रश्न उठने के बाद पुलिस की मुसीबतें भी बढ़ गई है। जानकारी के अनुसार विधानसभा द्वारा जबलपुर पुलिस से पूरे मामले की जानकारी मांगी गई है। विधानसभा से प्रश्न आने के बाद पुलिस भी उसका जवाब बनाने में जुट गई है।

BJP
Show More
Premshankar Tiwari Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned