MP में धरने पर बैठे भाजपा के ये पूर्व मंत्री, पुलिस पर लगाया गंभीर आरोप

पैदल मार्च करके पहुंचे प्रदर्शन स्थल

By: deepankar roy

Published: 10 Feb 2018, 10:46 AM IST

जबलपुर। भारतीय जनता पार्टी के एक पूर्व मंत्री ने एक बार फिर पुलिस पर हमला बोला। क्षेत्र में बढ़ रहे अपराध का हवाला देते हुए पुलिस के खिलाफ पैदल मार्च किया और फिर एक चौराहे पर धरना देने बैठ गए। सत्ता पक्ष से जुड़े इस नेता के अचानक धरना-प्रदर्शन से पुलिस से लेकर प्रशासन तक हड़कंप मच गया। आनन-फानन में पुलिस और प्रशासन के कुछ अधिकारी मौके पर पहुंचे। उन्होंने पूर्व मंत्री को समझाने का प्रयास किया। लेकिन उन्होंने अधिकारियों की एक न सुनी और धरना-प्रदर्शन जारी रखा।

'बब्बूÓ ने मोर्चा खोला
पुलिस के खिलाफ शुक्रवार को मोर्चा पूर्व मंत्री हरेन्द्रजीत सिंह 'बब्बूÓ ने खोला। हत्या के मामले में आरोपितों की गिरफ्तारी नहीं होने और पश्चिम क्षेत्र में बढ़ रहे अपराधों को लेकर उन्होंने प्रदर्शन किया। इस दौरान उन्होंने समर्थकों के साथ पुलिस के खिलाफ आनंदकुंज चौराहे से पैदल मार्च निकाला और गढ़ा थाने के सामने त्रिपुरी चौक पर धरना दिया। इस दौरान पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की।

मांगे पूरी होने पर ही खत्म होगा धरना

बब्बू ने मांगें पूरी नहीं होने तक धरना जारी रखने की बात कही। बब्बू ने बताया कि गढ़ा निवासी भारत पटेल की हत्या के आरोपित तक पुलिस नहीं पहुंच सकी। वहीं एक युवती के लापता होने के मामले में भी पुलिस हीलाहवाली कर रही है। एसडीएम अरविंद सिंह, सीएसपी अंजुलता पटले ने जल्द कार्रवाई की बात कही। लेकिन वे धरना समाप्त करने तैयार नहीं हुए। धरने में बब्बू के साथ अखिलेश तिवारी, मीरा दुबे, दीप्ति पटेल, उमेश तिवारी, पृथ्वी सिंह, शरद बेन, राजेश पटेल मौजूद थे।

पहले भी कर चुके है आंदोलन

शहर में यह पहला मौका नहीं है जब बब्बू ने पुलिस और प्रशासन के खिलाफ मोर्चा खोला है। इससे पहले भी कई मौके पर वे अपनी पार्टी की सरकार के कार्यकाल में ही प्रशासन के विरुद्ध आंदोलन कर चुके है। चाहे मामला परसवाड़ा विस्थापितों को हो या ऑटो/टैम्पो चालकों की समस्याओं का। अपराधियों पर अंकुश लगाने में नाकाम होने के आरोप लगाकर वे समय-समय पर पुलिस को घेरते रहे है।

Show More
deepankar roy Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned