दातों में हो दर्द तो न लें हल्के में, ब्लैक फंगस भी हो सकता है

-डॉक्टरों की सलाह दांत में दर्द हो तो तत्काल चिकित्सक से संपर्क करें

By: Ajay Chaturvedi

Published: 12 Jul 2021, 11:00 AM IST

जबलपुर. कोरोना से संक्रमित हो चुके लोगों को लंबे अर्से तक पोस्ट कोविड बीमारियों से जूझना पड़ रहा है। इसी में एक बीमारी है ब्लैक फंगस। अब ब्लैक फंगस दांतों तक पहुंच गया है। इतना ही नहीं ये नाक, कान, गला और दातों के मार्फत दिमाग तक पहुंच कर लकवा में तब्दील कर रहा है। लिहाजा डॉक्टरों की राय है कि दांत में दर्द हो, हिलने लगा हो तो फौरन दांत के डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए, ये ब्लैक फंगस की शुरूआत हो सकती है।

जबलपुर के नेताजी सुभाष चंद्र बोस मेडिकल कालेज अस्पताल में रोजाना दो से ज्यादा मरीज ब्लैक फंगस का उपचार कराने पहुंच रहे हैं। ब्लैक फंगस के लक्षण में भी बदलाव देखा जा रहा है। गत माह तक नाक से रक्तत्राव की शिकायत लेकर मरीज पहुंचते थे, अब ज्यादातर मरीजों में दांतों के हिलने की शिकायत देखी जा रही है। ब्लैक फंगस के कुछ मरीज ऐसे सामने आए, जिनके दांत निकालने के बाद दंत रोग चिकित्सक ने ब्लैक फंगस की आशंका जताई। जांच में सभी ब्लैक फंगस से संक्रमित मिले।

ब्लैक फंगस के कारण दांतों में होने वाली तकलीफ के इलाज की जिम्मेदारी मेडिकल के नाक कान गला रोग विभाग के चिकित्सकों पर आ गई है। पहले से ही इस विभाग में चिकित्सक समेत अन्य अमले की कमी बनी हुई है। जो ब्लैक फंगस मरीजों के उपचार में बाधा बन रही है। हालांकि विभागाध्यक्ष डॉ. कविता सचदेवा का कहना है कि मरीजों की संख्या बढ़ने के बावजूद कामकाज पर असर नहीं पड़ा है।

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned