हड़बड़ी में दफना दिया शव, पहचान हुई तो फिर से निकाला

जबलपुर में गुमशुदा युवक का शव बिना शिनाख्ती दफनाया, नर्मदा नदी में मिला था शव, पुलिस की लापरवाही पर परिजन का हंगामा

 

By: shyam bihari

Published: 22 Oct 2020, 09:52 PM IST

जबलपुर। पुलिस की हड़बड़ी हमेशा उल्टी पड़ जाती है। जबलपुर के ग्वारीघाट थाना क्षेत्र में नर्मदा नदी में मिले युवक के शव को अज्ञात मानकर दफना दिया। युवक के शव के सम्बंध में परिजन को सूचना मिली तो वे बुधवार को थाने पहुंचे। फोटो एवं कपड़ों से पहचान करने के बाद युवक के सम्बंध में दो दिन पहले से गुमशुदगी दर्ज होने की जानकारी दी। उसके बावजूद शिनाख्ती के प्रयास के बिना शव लावारिस मानकर दफना दिए जाने पर परिजन ने पहले घमापुर थाना और फिर ग्वारीघाट थाने में हंगामा किया। उसके बाद एसडीएम की उपस्थिति में चौहानी श्मशान में दफनाए गए शव को निकालकर परिजन के सुपुर्द किया।

मरघटाई रोड, घमापुर निवासी मनीष लोधी के लापता होने पर परिजनों ने 18 अक्टूबर को घमापुर थाना में गुम इंसान का प्रकरण दर्ज कराया था। ग्वारीघाट स्थित उमाघाट में नर्मदा नदी में मंगलवार को सुबह एक युवक का शव उफानते हुए मिला। ग्वारीघाट पुलिस ने शव का पीएम कराने के बाद लावासि मानकर गढ़ा चौहानी श्मशान में दफन करा दिया। परिजन का आरोप है कि पुलिस ने गुमशुदगी की जानकारी नहीं ली। अज्ञात युवक का शव मिलने की जानकारी पर वे थाने पहुंचे। कपड़े एवं फोटो के आधार शव की पहचान गुम इंसान मनीष के रूप में की। पुलिस के अनुसार मंगलवार को देर रात विसर्जन कुंड के पास एक बाइक मिली। उसके पंजीयन की जानकारी खंगाली गई, तो वाहन घमापुर निवासी 20 वर्षीय मनीष लोधी का होने का पता चला। उसके बाद घमापुर पुलिस से सम्पर्क करके वाहन मिलने की सूचना दी गई। थाने से जानकारी प्राप्त हुई कि मनीष की गुम इंसान की रिपोर्ट दर्ज है। उसके बाद परिजनों को सूचित कर शव की पहचान की गई।

shyam bihari Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned