innovative ideas for students : बाल्टी से बनाया वैक्यूम क्लीयर, जुगाड़ से तैयार उपकरण को देखकर हो जाएंगे हैरान

innovative ideas for students : बाल्टी से बनाया वैक्यूम क्लीयर, जुगाड़ से तैयार उपकरण को देखकर हो जाएंगे हैरान

Deepankar Roy | Publish: Nov, 15 2017 03:24:59 PM (IST) Jabalpur, Madhya Pradesh, India

राज्य विज्ञान शिक्षा संस्थान और अध्यापक शिक्षा महाविद्यालय के तत्वावधान में राज्य स्तरीय मेला शुरू

जबलपुर। प्रदेश के बाल वैज्ञानिकों की जुगाड़ की इंजीनियरिंग के कमाल को जानकार हैरान रह जाएंगे। इन्होंने अनुपयोगी सामान और बाल्टी का उपयोग करके वैक्यूम क्लीनर बना दिया। इसमें कचरे को कलेक्ट करने के लिए प्रतिभागी ने पंखे का उपयोग किया है, जिसे ऑन करते ही पंखे के जरिए पूरा कचरा बाल्टी में लगे हुए एक ढक्कन के जरिए स्टोर कर लिया जाता है। ये तो महज नजीर है। बाल वैज्ञानिकों ने ऐसे ही कई मॉडल राज्य विज्ञान शिक्षा संस्थान में आयोजित प्रदर्शनी में पेश किए। इस राज्य स्तरीय प्रदर्शनी का मंगलवार को शुभारंभ हुआ।
एक से बढ़कर एक मॉडल
कार्यालय संचालक राज्य विज्ञान शिक्षा संस्थान और अध्यापक शिक्षा महाविद्यालय में नेहरू साइंस सेंटर मुम्बई अैर एमपीसीएसटी भोपाल के संयुक्त तत्वावधान में दो दिवसीय 30वां पश्चिम भारत राज्य स्तरीय विज्ञान मेले का शहर में आयोजन किया जा रहा है। इसमें स्वच्छ भारत की कल्पना को साकार करता हुआ मॉडल एक प्रतिभागी द्वारा तैयार किया गया। इसमें वैक्यूम सिस्टम पर बेस्ड मॉडल तैयार किया गया था। इसके साथ ही गणित और विज्ञान से जुड़ी कई तथ्यों को मॉडल्स में देखने को मिला।
प्रदेश भर के बाल वैज्ञानिक आए
विज्ञान मेले में भोपाल, जबलपुर, खण्डवा, उज्जैन, देवास, रीवा, ग्वालियर, शहडोल, छतरपुर से प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया। प्रतियोगिता का उद्घाटन मुख्य अतिथि विधायक अंचल सोनकर, विशिष्ट अतिथि साइंटिस्ट निपुण सिलावट ने किया। अतिथियों ने कहा कि आंख के हिस्से और उसके कार्यों को समझना किताबी नॉलेज में जरा कठिन लगता है, लेकिन प्रैक्टिकली बनाए गए मॉडल के जरिए स्टूडेंट्स आसानी से दृष्टि की रूपरेखा को समझ पाए। प्रैक्टिकल नॉलेज के इस उदाहरण ने सभी को चकित किया।
टीचर्स के भी सराहनीय प्रोजेक्ट
प्रदर्शनी में स्टूडेंट्स के साथ-साथ टीचर्स ने भी तरह-तरह के प्रोजेक्ट्स बनाए। इसमें उन्होंने कॉनिक सेक्शन को प्रोजेक्ट के जरिए समझाया। शोभा अय्यर द्वारा तैयार किए गए इस प्रोजेक्ट को स्टूडेंट्स प्रैक्टिकली काफी बेहतर समझ पाते हैं। वहीं ओमप्रकाश पाटीदार द्वारा दृष्टि को समझाया गया, ताकि स्टूडेंट्स लैंस के बारे में बेहतर समझ सकें।
विज्ञान और वैज्ञानिक पहलू
विज्ञान प्रदर्शनी में प्रतिभागियों द्वारा ऑइल सेवर प्लांट, इको फ्रेंडली कार्पेट, डर्टी सिटी क्लीन सिटी, आधुनिक विज्ञान से जुड़े मॉडल्स बनाए। इस दौरान एक्सपर्ट राजेश कौरव द्वारा 'विज्ञान का विकास और बदलते वैज्ञानिक पहलूÓ विषय पर व्याख्यान दिया गया। इस मौके पर संस्थान संचालक दिनेश अवस्थी, कार्यक्रम प्रभारी डॉ. सुसम्मा जॉनसन, सहप्रभारी डॉ. सुनीता श्रीवास्तव, सहसमन्वयक एएस पाण्डे, श्रद्धा पाठक, ज्योति तारे आदि उपस्थित थीं।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned