scriptChaitra Navratri Ghatasthapana muhurat, auspicious time for puja | चैत्र नवरात्रि: घोड़े पर सवार होकर आएंगी माता, घट स्थापना का ये है शुभ मुहूर्त | Patrika News

चैत्र नवरात्रि: घोड़े पर सवार होकर आएंगी माता, घट स्थापना का ये है शुभ मुहूर्त

शक्ति की भक्ति- नगर के शक्तिपीठों में हो रही तैयारियां

 

जबलपुर

Updated: March 29, 2022 10:30:52 am

जबलपुर। चैत्र की नवरात्रि दो अप्रेल से शुरू हो जाएगी। इस बार मां अम्बे घोड़े पर सवार होकर आ रही हैं। शास्त्रों में जगदम्बे के हर वाहन का अलग-अलग महत्व बताया गया है। साल में दो बार आने वाली नवरात्रि में हर बार मां नए वाहन पर धरती पर आगमन करती हैं। नए वाहन पर ही धरती से देवलोक को विदा लेती हैं। मान्यता है कि इन वाहनों का देश, दुनिया की परिस्थितियों पर प्रभाव पड़ता है। ज्योतिषाचार्य जनार्दन शुक्ला ने बताया कि वैसे तो देवी मां का वाहन हमेशा शेर माना जाता है। लेकिन, मान्यता है कि नवरात्रि के मौके पर मां अलग-अलग वाहन पर सवार होकर धरती पर आती हैं। मां के आगमन के वाहन हैं डोली, नाव, घोड़ा, और हाथी हैं।

Chaitra Navratri Ghatasthapana muhurat, auspicious time for puja
Chaitra Navratri Ghatasthapana muhurat, auspicious time for puja

नवरात्रि सोमवार या रविवार से शुरू हो रही हैं, तो मां का वाहन हाथी होता है। नवरात्रि शनिवार या मंगलवार से शुरू होती है, तो मां का वाहन घोड़ा होता है। नवरात्रि गुरुवार या शुक्रवार से शुरू होती है, तो मां डोली में बैठकर आती हैं। नवरात्रि बुधवार से शुरू हो तो मां नाव पर सवार होकर आती हैं। शुक्ला ने बताया कि माता हाथी पर सवार होकर धरती पर आती हैं, तो ज्यादा पानी बरसता है। घोड़े पर आती हैं, तो युद्ध के हालात पैदा होते हैं। नौका पर सवार होकर आती हैं, तो सब अच्छा होता है और शुभ फलदायी होता है। अगर मां डोली में बैठकर आती हैं, तो महामारी, संहार का अंदेशा होता है। उन्होंने बताया कि इस बार माता अश्वारूढ़ होकर आ रही हैं। इस समय रूस-यूक्रेन में युद्ध चल रहा है। माता के अश्व वाहन के परिणामस्वरूप यह युद्ध और विकराल रूप ले सकता है।

durga_pooja_2.jpg

नौ दिनों की पूरी नवरात्र
इस बार चैत्र माह में पडऩे वाली नवरात्रि का त्योहार 2 अप्रैल 2022 से शुरू हो रहा है। इस बार यह पूरे नौ दिन अर्थात 11 अप्रैल तक रहेगा। नौ दिनों की नवरात्र को पूर्ण नवरात्र भी कहा जाता है। नवरात्र के पहले दिन चैत्र मास की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि 2 अप्रैल को माता के लिए कलश स्थापना की जाए।

इस प्रकार है कलश स्थापना का मुहूर्त
शुक्ला ने बताया कि कलश स्थापना के लिए दो अप्रेल को सारा दिन मुहूर्त है। सुबह 7.30 से नौ बजे तक शुभ चौघडिय़ा, 8.05 से 10.05 बजे तक वृषभ लग्न, 1.30 से तीन बजे तक लाभ चौघडिय़ा, तीन से 4.30 बजे तक अमृत चौघडिय़ा, छह से 7.30 बजे तक प्रदोषकाल व रात्रि नौ से 10.30 बजे तक शुभ चौघडिय़ा में कलश स्थापना के शुभ मुहूर्त हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

PM Modi Nepal Visit : नेपाल के बिना हमारे राम भी अधूरे हैं, नेपाल दौरे पर बोले पीएम मोदीमहबूबा मुफ्ती ने कहा इनको मस्जिद में ही मिलता है भगवानMonsoon Update 2022: अंडमान-निकोबार पहुंचा मानसून, जानिए आपके राज्य में कब होगी बारिशGyanvapi Survey: ज्ञानवापी परिसर में जहां मिला शिवलिंग उसे अदालत ने तत्काल सील करने का दिया आदेश, जानें क्या कहा DM नेजातिगत जनगणना: भाजपा के विरोध के बावजूद सीएम नीतीश कुमार बिहार में जल्द बुलाएंगे सर्वदलीय बैठकUdaipur Chintan Shivir: राजस्थान में दंगे करवाने में भाजपा के बड़े नेताओं का हाथ, 'चिंतन' के बाद बोले सीएम गहलोत7 लोगों को जिंदा जलाकर दोस्त से मैसेज पर कही थी ये बात, अब दोस्त ने कहा- इसे फांसी देना भी कम हैराहुल गांधी का केंद्र पर करारा हमला...बोले भाजपा लोगों को बांटने का काम कर रही है
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.