पीडब्ल्यूडी का ये ठेकेदार मृत महिला के खाते में मंगाता था ठगी की रकम, नर्सों ने पहुंचाया जेल

Cheating:तबादले के नाम पर नर्सों से फर्जी नाम पर जमा कराता था पैसे, जबलपुर से दमोह की पुलिस ने गिरफ्तार किया

जबलपुर. कोतवाली थाना अंतर्गत दीक्षितपुरा निवासी पीडब्ल्यूडी ठेकेदार (PWD contractor) नर्सों से तबादले के नाम पर ठगी( Cheated) करता था। वह ठगी की रकम भोपाल निवासी एक मृत महिला के खाते में (account of dead woman) जमा करवाता था। पूछताछ में उसने कई और चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। उसने बताया कि जबलपुर, दमोह, होशंगाबाद सहित कई जिलों में तैनात नर्सों से ठगी की है। 24 सितम्बर को दमोह की क्राइम ब्रांच और कोतवाली पुलिस फिल्मी अंदाज में उसे गिरफ्तार कर अपने साथ ले गई।
दो पूर्व मुख्यमंत्रियों का करीबी
जानकारी के अनुसार नारायणगंज घंसौर निवासी महेंद्र पटेल (48) पीडब्ल्यूडी में ठेकेदार है। उसने दीक्षितपुरा कॉलोनी में भी घर बनवाया है। यह भी पता चला है कि महेंद्र दो पूर्व मुख्यमंत्रियों का काफी करीबी रह चुका है। वह अधिकतर समय भोपाल में ही रहता है। पहली पत्नी को तलाक दे चुके महेंद्र की पत्नी मनीषा से जबलपुर कोतवाली पुलिस को उसकी गिरफ्तारी की जानकारी मिली।
फिल्मी अंदाज में किया गिरफ्तार
महेंद्र पुलिस से बचने के लिए भोपाल के बजाय कई दिनों से जबलपुर में रह रहा था। 24 सितम्बर की रात 11.30 बजे के लगभग वह अस्पताल से इलाज कराकर घर लौट रहा था। घर के बाहर से ही पुलिस ने उसे फिल्मी अंदाज में गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद शहर में उसके हनीट्रैप और एसआईटी को लेकर अफवाह फैल गई थी।
ये हुआ खुलासा
दमोह कोतवाली के निरीक्षक एचआर पांडे ने बताया कि कुछ समय पहले जिला अस्पताल की नर्सों की शिकायत मिली थी। शिकायत में बताया गया था कि भोपाल निवासी आरके मिश्रा ने मनचाहे स्थान पर तबादले के लिए 2.93 लाख रुपए खाते में जमा करवाया था। तबादला नहीं होने पर उसने नम्बर बदल लिया। पुलिस ने मोबाइल नम्बर की जांच की तो पता चला कि वह नम्बर महेंद्र पटेल का है। वह नर्सों से अपनी पहचान आरके मिश्रा के रूप में बताता था। उसके खिलाफ धारा 420, 507, 294 का मामला दर्ज किया गया है। शुक्रवार को उसे दमोह कोर्ट में पेश कर पुलिस ने रिमांड पर लिया है।

Show More
santosh singh Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned