विदाई के मौके पर चीफ जस्टिस ने कही बड़ी बात, संस्कारधानी में मिला घर जैसा ट्रीटमेंट मिला

ऑनलाइन आयोजित हुआ विदाई समारोह, यह भी कहा कि ताकत जनता में निहित

By: govind thakre

Published: 30 Sep 2020, 05:53 PM IST

जबलपुर. मप्र हाईकोर्ट के 25वें चीफ जस्टिस एके मित्तल ने मंगलवार को अपनी विदाई की बेला में अपने उद्गार में संस्कारधानी की प्रशंसा करते हुए उन्होंने कहा कि जबलपुर में उन्हें घर जैसा ट्रीटमेंट मिला। अपने कार्यकाल में बार और स्टाफ के सहयोग के लिए उन्होंने आभार व्यक्त किया।
न्यायपालिका पर जनता के विश्वास में ही कोर्ट की असली शक्ति निहित है। बार और बेंच का दायित्व है कि न्यायपालिका की ओर से अर्जित यह भरोसा टूटने न पाए। यह केवल जनता को त्वरित, सस्ते व एक समान न्याय उपलब्ध कराने से किया जा सकता है।
सभी का मिला सहयोग
मंगलवार को सीजे मित्तल के रिटायरमेन्ट के अवसर पर हाईकोर्ट की मुख्यपीठ जबलपुर के साउथ ब्लॉक सभागार में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ऑनलाइन विदाई समारोह आयोजित किया गया। इस दौरान चीफ जस्टिस मित्तल ने कहा कि उनके कार्यकाल के दौरान कोरोना संक्रमण के चलते हुए लॉकडाउन के बाद अदालतों को चलाना एक चुनौतीपूर्ण कार्य था। लेकिन सहयोगी जजों, स्टाफ व अधिवक्ता वर्ग की मदद से ऑनलाइन अर्जेंट केसों की सुनवाई सम्भव हो सकी।कई भवनों का ई-उद्घाटन कियाचीफ जस्टिस मित्तल ने कहा कि अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने कई न्यायिक भवनों का ई-उद्घाटन किया। इस क्रम में न्यायालय भवन, आर्बिट्रेशन सेंटर, एडीआर सेंटर, जजेस कंडोमिनियम जबलपुर, एमपी स्टेट ज्यूडिशियल एकेडमी रीजनल ऑफिस ग्वालियर का ई उद्घाटन किया। उन्होंने जबलपुर में अंतरराष्ट्रीय आर्बिट्रेशन सेंटर व पचमढ़ी में सेशन हाउस का शिलान्यास भी किया। जस्टिस मित्तल ने कहा कि कोरोनाकाल के चलते सीजेआई का जबलपुर आगमन नहीं हो सका लेकिन उन्होंने मप्र हाईकोर्ट की किताब ज्यूडिशियल हिस्ट्री एंड कोट्र्स ऑफ मप्र का ऑनलाइन विमोचन कर हाइकोर्ट का गौरव बढ़ाया। चीफ जस्टिस मित्तल ने राज्य न्यायिक प्रशिक्षण अकादमी की प्रशंसा करते हुए कहा कि यह देश मे पहली संस्था है, जिसने सिविल जजों के लिए ऑनलाइन ट्रेनिंग कोर्स आरम्भ किया।
सभी ने की प्रशंसा
महाधिवक्ता पुरुषेन्द्र कौरव, मप्र हाईकोर्ट बार एसोशिएशन के अध्यक्ष रमन पटेल, मप्र हाईकोर्ट एडवोकेट्स बार एसोसिएशन के अध्यक्ष मनोज शर्मा, असिस्टेंट सॉलिसिटर जनरल ऑफ इंडिया जेके जैन ने चीफ जस्टिस मित्तल के जीवन वृत्त पर प्रकाश डाला। वक्ताओं ने सीजे मित्तल के न्यायज्ञान की भी प्रशंसा की।ये थे मौजूदएक्टिंग चीफ जस्टिस नियुक्त किए गए जस्टिस संजय यादव, जस्टिस सुजय पॉल, जस्टिस अंजुलि पालो, जस्टिस विजय शुक्ला, जस्टिस संजय द्विवेदी, जस्टिस विशाल धगट सहित हाईकोर्ट के अन्य न्यायाधीशगण, रजिस्ट्रार जनरल आरके वाणी, राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण की सदस्य सचिव गिरिबाला सिंह, मप्र हाईकोर्ट विधिक सेवा समिति के सचिव राजीव कर्महे, हाईकोर्ट के अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे।कार को लगाया धक्काकार्यक्रम के बाद चीफ जस्टिस मित्तल को उनके सहयोगी स्टाफ ने परम्परागत तरीके से विदाई भी दी। इस विदाई में चीफ जस्टिस मित्तल को बिठाकर उनकी बंद कार को सभी ने धक्का लगाया। कार को धक्का देते हुए गेट तक पहुंचाया गया।

Show More
govind thakre Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned