मुख्य सचिव ने कहा निलंबित होंगे ये राजस्व अधिकारी, जानें क्यों होगी कार्रवाई

शहर में राजस्व अधिकारियों की संभाग स्तरीय बैठक

By: Premshankar Tiwari

Published: 18 Aug 2017, 12:27 PM IST

जबलपुर। प्रदेश के राजस्व अधिकारियों को अपने काम में मामूली लापरवाही भी भारी पडऩे वाली है। प्रदेश के मुख्य सचिव बीपी सिंह ने राजस्व अधिकारियों के कामकाज के लचीले रवैया को कड़ा रुख अपनाया है। शनिवार को राजस्व अधिकारियों की संभाग स्तरीय बैठक में मुख्य सचिव ने मौजूदा राजस्व अधिकारियों को कड़ी चेतावनी दी। बैठक में राजस्व प्रकरणों की समीक्षा करते हुए मुख्य सचिव ने कहा कि फिलहाल चेतावनी दी जा रही है। इसके बाद सख्ती होगी। दो माह बाद संभाग स्तर पर दोबारा राजस्व प्रकरणों की समीक्षा होगी। राजस्व न्यायालयों का निरीक्षण भी होगा। उस वक्त एक भी प्रकरण बिना दर्ज हुए मिला तो जिम्मेदार राजस्व अधिकारी को फौरन निलंबित होगा।
ये बैठक में उपस्थित
मुख्य सचिव की अध्यक्षता में संभाग स्तरीय बैठक तिलहरी स्थित एक होटल में हुई। बैठक में प्रमुख सचिव राजस्व अरुण पांडे, सचिव राजस्व हरिरंजन राव, प्रमुख आयुक्त राजस्व रजनीश श्रीवास्तव, आयुक्त भू-अभिलेख एम के अग्रवाल, संभागायुक्त गुलशन बामरा, अतिरिक्त आयुक्त राजस्व मिश्रा, कलेक्टर महेश चंद्र चौधरी सहित सम्भाग के सभी जिलों के कलेक्टर तथा नायब तहसीलदार स्तर के अधिकारी मौजूद हैं ।
मूल कार्य की उपेक्षा से विभाग से छवि खराब
मुख्यसचिव ने बैठक में कहा कि राजस्व प्रकरणों के निराकरण को लेकर आमजनता और किसानों की शिकायतों को दूर करना होगा। मुख्यसचिव ने कहा कि राजस्व अधिकारियों को राजस्व के मूल कार्यों पर ज्यादा ध्यान देना होगा। मूल कार्यो की उपेक्षा से विभाग की छवि खराब हुई है। सीएस ने हर राजस्व प्रकरण आर सी एम एस पोर्टल पर दर्ज करने के भी निर्देश दिए।
रीडर के भरोसे न चलें न्यायालय
मुख्य सचिव ने कहा कि हर पीठासीन अधिकारी अपने न्यायालय पर पूरा नियंत्रण होना चाहिए। राजस्व न्यायालय रीडर के भरोसे न चलें । राजस्व अधिकारियों को रीडर के कामकाज पर भी नजर रखनी होगी। मुख्यसचिव ने राजस्व अधिकारियों को अपने कोर्ट के साथ अधीनस्थ राजस्व न्यायालयों का भी लगातार निरीक्षण करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि राजस्व अधिकारियों को निरीक्षण नोट भी अनिवार्य रूप से तैयार करना होगा और इसका समय पर पालन भी सुनिश्चित करना होगा ।
पटवारियों के बस्ते की जांच करें
मुख्यसचिव ने कहा कि अनुविभागीय राजस्व अधिकारियों और तहसीलदारों को अपने अधीनस्थ हर शतप्रतिशत पटवारियों के बस्ते की जांच करनी चाहिए । इस पर ज्यादा ध्यान देना होगा्र। उन्होंने प्रत्येक गांव में खसरा बी- 1 का वाचन अनिवार्य रूप से करने के निर्देश दिए। मुख्यसचिव ने कहा खसरा बी 1 के वाचन से महत्वपूर्ण बदलाव आएंगे।
डायवर्सन, नजूल की पूरी वसूली हो
मुख्यसचिव ने बैठक में राजस्व वसूली पर जोर दिया । उन्होंने कहा कि डायवर्सन और नजूल की शतप्रतिशत वसूली होनी चाहिए। उन्होंने ने कहा कि वसूली बढ़ाने के डायवर्सन का पुनर्निर्धारण करे और नजूल पट्टों का नवीनीकरण करें।
इतना सुंदर भवन नहीं देखा
मुख्यसचिव ने बैठक में शुक्रवार शाम जबलपुर में किये गये राजस्व न्यायालयों के निरीक्षण का किया बैठक में उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि इतना सिस्टमेटिक कार्य कहीं नही मिला। राजस्व न्यायालयों के केस वर्क और निर्णय की प्रक्रिया तथा कुछ फैसलों की भी तारीफ की । मुख्यसचिव ने कहा कि जबलपुर के कलेक्ट्रेट भवन की भी तारीफ की। उन्होंने कहा कि इतना सुंदर कलेक्ट्रेट भवन कहीं नही देखा।

Premshankar Tiwari Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned