childrens day kab aata hai बाल दिवस की ये बात नहीं जानते होंगे आप, जानें बाल दिवस का महत्व

हर साल बाल दिवस लोगों को विशेष रुप से माता-पिता को इस दिन के बारे में जागरुक करने के लिये मनाया जाता है

By: Lalit kostha

Published: 12 Nov 2017, 03:11 PM IST

जबलपुर। बच्चों के अधिकार देखभाल और शिक्षा के प्रति जागरुकता बढ़ाने का दिन यानी कि 14 नवंबर यानी चाचा नेहरू का जन्मदिन या यूं कहें कि बाल दिवस। बच्चे देश की सफलता और विकास की चाबी कहे जाते हैं। वही देश को नए और तकनीकी ढंग से नेतृत्व करने के लिए तैयार होते हैं। वह अनमोल मोती और चमकदार होते हैं। इन्हें जैसे चाहे वैसे भविष्य के तौर पर तैयार कर सकते हैं।
बच्चों के लिए कहा जाता है कि वह सर्वशक्तिमान के अंश हैं। वह निर्दोष सराहनीय और हर किसी को बहुत प्यारे होते हैं। 14 नवंबर को आजाद भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरु का जन्मदिन होता है। जिसे बाल दिवस के रूप में मनाया जाना जाता है। पंडित जवाहर लाल नेहरू की जन्म तिथि है। वो भारत की आजादी के तुरन्त बाद भारत के प्रधानमंत्री बने। हर साल बाल दिवस लोगों को विशेष रुप से माता-पिता को इस दिन के बारे में जागरुक करने के लिये मनाया जाता है।

इसलिए मनाया जाता है बाल दिवस

चाचा नेहरू एक महान भारतीय नेता का जन्मदिन बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है। उन्होंने भारत की आजादी के बाद बच्चों के साथ ही युवाओं के भलें के लिए बहुत अच्छे काम किया। उन्होंने भारत के बच्चों की शिक्षा, प्रगति और कल्याण के लिए बहुत काम किया। वो बच्चों के के प्रति बहुत स्नेही थे और उनके बीच चाचा नेहरू के रूप में प्रसिद्ध हो गये।। भारत के युवाओं के विकास और प्रगति के लिए, उन्होंने विभिन्न शैक्षिक संस्थानों जैसे भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान और भारतीय प्रबंधन संस्थान की स्थापना की थी।

ऐसे मानते हैं बाल दिवस समारोह

बाल दिवस हर साल बहुत सारे आयोजित कार्यक्रमों, सांस्कृतिक और मनोरंजक गतिविधियों सहित पूरे भारत में मनाया जाता है। सरकारी और गैर सरकारी संगठनों, स्कूलों, गैर सरकारी संगठनों, निजी संस्थाओं और अन्य के द्वारा विविध प्रतियोगिताओं के साथ ही बच्चों को उनके अधिकारों के बारे में जानकारी देकर और उन्हें खुश और प्रोत्साहित करने के लिये विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। 14 नवंबर को टीवी चैनल भी बच्चों के लिए रोचक कार्यक्रमों का प्रदर्शन करते हैं। माता-पिता बहुत उत्साह से अपने बच्चों को खुश करने के लिए इस कार्यक्रम में भाग लेते हैं; वे अपने बेटे और बेटियों को उपहार, ग्रीटिंग कार्ड वितरित करते हैं। वो पिकनिक, लंबी सैर पर जाने के साथ ही दिन का आनंद पार्टी के साथ लेते हैं।

Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned