Clean India Mission : स्वच्छता के सकंल्प को पूरा करने ये बने सहभागी, बढ़-चढ़कर ले रहे हिस्सा

सम्भाग के आठ जिलों तक जा पहुंची मुहिम

By: reetesh pyasi

Published: 03 Jan 2020, 08:09 PM IST

जबलपुर। स्वच्छ भारत मिशन के तहत स्वच्छता के संकल्प को पूरा करने अब छात्र-छात्राओं ने सहभागिता बढ़ा दी है। प्रदेश के जबलपुर सम्भाग के 3 हजार 939 स्कूलों में शिक्षक और छात्र मिलकर शौचालयों की सफाई कर रहे हैं। इनमें से 26 सौ से अधिक स्कूलों को स्टार श्रेणी दी गई है।

इस जज्बे के साथ जुटे अभियान में
'हम अपने घर के शौचालय मिलकर साफ कर सकते हैं तो फिर अपने स्कूल के शौचालय को साफ क्यों नहीं कर सकते।' इसी जज्बे के साथ 'मेरी शाला मेरी जिम्मेदारी' अभियान के तहत शुरू की गई छोटी सी मुहिम आज रंग लाई है। जबलपुर के एक दर्जन स्कूलों में हुई शुरुआत अब सम्भाग के आठ जिलों तक जा पहुंची है।

9 हजार स्कूलों ने की शुरुआत
जानकारों के अनुसार जबलपुर सम्भाग में 20 हजार 517 स्कूल संचालित हैं। इन स्कूलों में से 9 हजार 800 स्कूलों ने स्वच्छ विद्यालय के तहत खुद शौचालय साफ करने का बीड़ा उठाया। इन स्कूलों में सफाई को लेकर मार्किंग की गई। जिसमें सम्भाग के 3 हजार 939 में शौचालयों को नियमित सफाई शुरू मिली।

ऐसे हुई शुरुआत, यूनिसेफ से कराया सर्वे
मेरी शाला मेरी जिम्मेदारी के तहत 27 मई 2019 से मुहिम शुरू हुई। तत्कालीन सम्भागायुक्त राजेश बहुगुणा एवं वर्तमान सम्भागीय संयुक्त संचालक राजेश तिवारी ने स्कूलों को प्रोत्साहित किया। 9 हजार स्कूलों का यूनिसेफ एवं स्वच्छ भारत अभियान के तहत सर्वे कराया गया। 66 फीसदी स्कूलों का सर्वे कर स्कूल शिक्षा विभाग को रिपोर्ट प्रस्तुत की गई।

2611 स्कूलों को मिली स्टार श्रेणी
स्टार श्रेणी से हाल ही में इन स्कूलों को नवाजा गया है। सम्भाग के 2611 स्कूलों को स्टार श्रेणी के स्कूलों में शामिल किया गया है। सबसे ज्यादा तीन स्टार तक प्राप्त करने में स्कूल सफल हो सके हैं।

reetesh pyasi Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned