election 2018 - सीएम ने किया बिजली बिल माफ, कांग्रेसी कर रहे एफआईआर दर्ज करने की मांग, देखें वीडियो

deepak deewan | Publish: Sep, 09 2018 03:30:59 PM (IST) | Updated: Sep, 09 2018 03:34:23 PM (IST) Jabalpur, Madhya Pradesh, India

सीएम ने किया बिजली बिल माफ, कांग्रेसी कर रहे एफआईआर दर्ज करने की मांग

जबलपुर। मध्यप्रदेश में बिजली बिल माफी बड़ा चुनावी मुद्दा बन रहा है। प्रदेश सरकार ने छोटे बिजली उपभोक्ताओं के बिल माफ कर दिए हैं। बिजली बिल माफी के साथ ही अन्य कई राहतें भी देने की घोषणा की गई है। मध्यप्रदेश सरकार की बिजली बिल माफी योजना का किसानों और गरीब बिजली उपभोक्ताओं को सबसे ज्यादा फायदा हुआ है। इतना ही नहीं हजारों उन किसानों के बिजली बिल संबंधी प्रकरण भी वापस लिए जा रहे हैं जोकि किसान नहीं दे पाए थे और इस कारण उनपर कोर्ट केसेस चल रहे थे। बिजली बिल माफी की यही योजना अब प्रदेश सरकार की गले की फांस बनती जा रही है। जहां कई बिजली उपभोक्ता इसका यह कहकर विरोध कर रहे हैं कि इससे आम बिजली उपभोक्ताओं पर भार पड़ेगा और प्रदेश सरकार बिजली की दरें बढ़ाकर इसकी क्षतिपूर्ति करेगी वहीं कई संगठन भी इस योजना का विरोध कर रहे हैं। इतना ही नहीं अब तो कांग्रेस भी इस योजना के विरोध में उतर आई है। कांग्रेसियों ने तो इस मामले में सीएम शिवराजसिंह चौहान पर एफआईआर दर्ज करने की भी मांग की है। इसके लिए कांग्रेसी बाकायदा विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, थाने का घेराव भी कर रहे हैं।


ओमती थाने में दोपहर में दर्जनों कांग्रेसी लामबंद हो गए। कांग्रेसियों ने यहां आकर जोरदार नारेबाजी करते हुए बिजली बिल माफी में नियम-कानूनों की धज्जियां उड़ाए जाने की बात कही। थाना परिसर में आए कांग्रेसियों ने इस मामले में सीएम शिवराजसिंह चौहान पर एफआईआर दर्ज कराने की मांग की। कांग्रेस नेता सौरभ नाटी शर्मा ने बताया कि मध्यप्रदेश सरकार की बिजली बिल माफी योजना वस्तुत: बिजली अधिनियम का खुला उल्लंघन है। बिजली एक्ट के प्रावधानों का इस योजना में खुलकर मजाक उड़ाया गया है, प्रावधानों को ताक पर रख दिया गया है। कांग्रेसियों ने सीएम शिवराजसिंह चौहान के साथ ही प्रदेश के बिजली मंत्री और बिजली विभाग के अधिकारियों पर भी एफआईआर दर्ज कराए जाने की मांग की। इस मांग के समर्थन में कांग्रेसी थाने का घेराव कर बैठ गए हैं। इस बीच वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने कांग्रेसियों को समझाने की भी कोशिश की है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned