क्या दिन आ गए? यहां कांग्रेस पूछ रही है कि वह स्वतंत्रा दिवस मनाए की नहीं?

जबलपुर में कांगे्रस ने कहा भाजपा के दबाव में काम कर रहा प्रशासन

 

By: shyam bihari

Published: 13 Aug 2020, 08:44 PM IST

जबलपुर। स्वतंत्रता दिवस यानी 15 अगस्त के दिन आजादी का पर्व मनाना तो हर देशवासी का अधिकार है। फर्ज और जिम्मेदारी भी है। लेकिन, जबलपुर में कुछ अलग बयार चल रही है। यहां मुख्य विपक्षी कांग्रेस के शहर अध्यक्ष प्रशासन से यह पूछ रहे हैं कि उनकी पार्टी स्वतंत्रता दिवस मनाए कि नहीं? यह स्थिति क्यों बनी? इसका जवाब फिलहाल प्रशासन ही बता पाएगा। लेकिन, कांग्रेस नेताओं का आरोप है कि कोरोना कहर के बीच प्रशासन मनमानी पर उतर आया है। यह भी आरोप लगाया जा रहा है कि प्रशासन भाजपा के दबाव में काम कर रहा है। कार्यक्रम की अनुमति सम्बंधी प्रक्रिया पर कांग्रेस ने जिला प्रशासन और पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए हैं। कार्यक्रम के लिए अनुमति सम्बंधी प्रक्रिया कठिन करने पर नगर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष दिनेश यादव ने कलेक्टर और एसपी को एक पत्र लिखा है। इसमें पूछा गया है कि कांगे्रस स्वतंत्रता दिवस मनाए या नहीं? नगर अध्यक्ष ने पत्र में लिखा है कि पार्टी जिला कांग्रेस कमेटी से लेकर ब्लॉक व बूथ स्तर तक स्वतंत्रता दिवस का पर्व मनाती है। इसके लिए प्रत्येक जगह की अनुमति लेने की प्रक्रिया प्रशासन ने कठिन कर दी है। पत्र में यह भी आरोप है कि कुछ समय से कांगे्रस के कार्यक्रमों को अनुमति देने में प्रशासन आनाकानी कर रहा है।

इस मामले में भाजपा नेताओं का कहना है कि कांग्रेस अब सभी मामलों में राजनीति करने लगी है। आजादी का पर्व मनाना सबका अधिकार है। भला भाजपा किसी को क्यों रोकेगी? जबलपुर भाजपा इकाई के नेताओं ने कहा कि प्रशासन यदि भीड़ जुटाने से मना कर रहा है, तो प्रशासन का अपना नजरिया है। उसे व्यवस्था बनाने के लिए जो ठीक लग रहा है, कर रहा है। यह भी कहा गया कि अब कांग्रेस को कोई मुद्दा नहीं मिल रहा, तो वह 15 को भी मुद्दा बनाने लगी है। जबकि, जिला प्रशासन का कहना है कि कार्यक्रम मनाने की अनुमति की प्रक्रिय तय कर दी गई है। उसी के आधार पर सबको अनुमति मिलेगी। इसमें किसी प्रकार के दबाव का सवाल ही नहीं है।

BJP Congress
Show More
shyam bihari Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned