Congress leader Raju Mishra murder जब सीएम चौहान ने कहा कि गुंडों का क्रश कर दो...?

साल भर बाद भी पहेली बना कांग्रेस नेता राजू मिश्रा हत्याकांड, सीएम चौहान ने व्यथित होकर कहे थे ये शब्द

By: Lalit kostha

Published: 04 Jan 2018, 05:09 PM IST

जबलपुर। कांग्रेस नेता राजू मिश्रा हत्याकांड को पूरा एक साल हो गया है। मिलनसार छवि के नेता राजू को कांग्रेसजनों द्वारा याद किया जा रहा है। लोगों के मानस पटल पर सीएम चौहान के वे शब्द भी आ गए हैं, जब उन्होंने तल्ख लहजे में कहा था कि गुंडों का क्रश कर दो..। उल्लेखनीय है कि सरेआम हुए इस दोहरे हत्याकांड से सीएम शिवराज सिंह चौहान पर व्यथित हो गए थे। जबलपुर प्रवास के दौरान उनके तल्ख शब्दों का इशारा बिगड़ती कानून व्यवस्था को सुधारने के लिए कड़े कदम उठाने को लेकर था। यह बात अलग है कि वारदात का मुख्य सूत्रधार विजय यादव ही अब तक पुलिस की गिरफ्त से बाहर है।

नर्मदा सेवा यात्रा में आए थे सीएम
सीएम शिवराज सिंह चौहान उस समय नर्मदा सेवा यात्रा में भाग लेने के लिए जबलपुर आए थे। दोहरे हत्याकांड और संस्कारधानी व प्रदेश में बढ़ रही आपराधिक वारदातों से कहीं न कहीं मुख्यमंत्री भी आहत नजर आए थे। उन्होंन तत्कालीन पुलिस अधिकारियों की तरफ मुखातिब होकर तल्ख लहजे में कहा था कि गुंडों को क्रश कर दो। किसी भी तरह की आपराधिक गतिविधियां बरदाश्त नहीं की जाएंगी। उल्लेखनी है कि सीएम नरसिंहपुर में आयोजित नर्मदा सेवा यात्रा से से लौटकर यहां आए थे और जबलपुर में रात्रि विश्राम के बाद विमान से भोपाल के लिए रवाना हो गए।

जब हुई सवालों की बौछार
सर्किट हाउस में पत्रकारों ने मुख्यमंत्री के सामने सवालों की झड़ी लगा दी थी। पत्रकारों का कहना था, कि संस्कारधानी में अपराध का ग्राफ लगातार बढ़ रहा है। इस लिहाज से पुलिस भी मुस्तैद नहीं नजर आ रही है। पत्रकारों ने कांग्रेस नेता और उसके साथी की हत्या की वारदात से भी सीएम को अवगत कराया था। उन्हें बताया गया कि अपराधी पूरी तरह बेखौफ हैं। उन्होंने चेरीताल पारिजात बिल्डिंग के समीप फिल्मी अंदाज में दनादन फायर किए और कांग्रेस नेता समेत दो लोगों को मौत के घाट उतार दिया। इसी तरह शहर में चोरी और चेन स्नैचिंग के अपराध, प्रापर्टियों से जुड़े विवाद बढ़ रहे हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा था कि अपराध किसी भी सूरत में स्वीकार नहीं है। उन्होंने कहा था कि पुलिस कार्रवाई के लिए स्वतंत्र है। सीएम ने पुलिस अधिकारियों को संकेत किया, कि वे इस तरह के मामलों की पड़ताल करें और अपराधियों को बेनकाब करते हुए उन्हें सीकचों के पीछे करें।

इसके इशारे पर चलती थी गैंग
पुलिस सूत्रों के अनुसार गैंगस्टर विजय यादव पूरे घटनाक्रम का मास्टर माइंड था। उसकी गैंग उसके भाई रतन यादव के इशारे पर भी चलती थी। विजय समेत गैंग के गुर्गे क्या कर रहे हैं और क्या करने वाले हैं, इसकी जानकारी रतन को होती थी। रतन के हरी झंडी दिखाने के बाद ही गैंग किसी भी वारदात या काम को अंजाम देती थी। रतन ने अपने दिमाग और विजय की ताकत का इस्तेमाल कर शहर में कई अवैध काम किए। इनमें अधिकतर मामले प्रॉपर्टी के थे। रतन यादव को पुलिस ने पहले ही गिरफ्तार कर लिया है।

Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned