लोकसभा चुनाव 2019 : जीत-हार बाद में देखेंगे, पहले टिकट तो दे दो

जबलपुर सीट से उम्मीदवार नहीं घोषित होने से परेशान हैं कांग्रेस पदाधिकारी, कार्यकर्ता

By: shyam bihari

Published: 29 Mar 2019, 08:22 PM IST

जबलपुर। लोकसभा चुनाव में वीआइपी सीट मानी जा रही जबलपुर से कांग्रेस का प्रत्याशी घोषित नहीं होने से पार्टी के स्थानीय नेता और कार्यकर्ता कुछ ज्यादा परेशान हो रहे हैं। कार्यकर्ता अपने आसपास के नेता से सवाल करने लगे हैं कि जीत-हार तो ठीक है, आखिर टिकट कब फाइनल होगा? इसके जवाब में शहर स्तर के पदाधिकारी ठीक-ठाक जवाब नहीं दे पाते। सिर्फ इतना कहते हैं कि पार्टी जल्द ही कोई फैसला लेगी। लेकिन, कार्यकर्ताओं की मुश्किल यह है कि वे अपने विरोधियों के व्यंग्य का सामना नहीं कर पा रहे हैं। एक तरह से उन्हें सवालों का जवाब दिए बिना आगे बढ़ जाना पड़ता है। इसलिए कुछ कार्यकर्ता खीझने भी लगे हैं। उनकी खीझ अपनी ही पार्टी पर निकल रही है। हालांकि, पार्टी की ओर से पूरी कोशिश की जा रही है कि कार्यकर्ताओं की नाराजगी को किसी तरह से शांत रखा जाए।
जो भी होगा, सही होगा
जबलपुर में कांग्रेस की हालत बीते तीन लोकसभा चुनावों में अच्छी नहीं रही है। इसके चलते कार्यकर्ताओं को आत्मविश्वास डगमगाया हुआ है। बीते विधानसभा चुनावों में शहर में अच्छा प्रदर्शन पार्टी ने किया, तो माहौल थोड़ा सा बदला। लेकिन, टिकट वितरण में देरी ने एक बार फिर आत्मविश्वास पर पानी फेरने का काम किया है। कार्यकर्ता भी कहने लगे हैं कि टिकट का सही समय पर वितरण नहीं होना, बता रहा है कि अंदरखाने कुछ तो गड़बड़ है। उधर, भाजपा को भी पता है कि इस बार लोकसभा की लड़ाई आसान नहीं होने वाली है। सिर्फ टिकट पहले दे देने से ही जीत-हार तय नहीं हो गई। भाजपा नेताओं को भी पता है कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर कटाक्ष भले कर रहे हैं। लेकिन, मैदानी जंग इस बार तीन चुनावों की तरह आसान कहीं से भी नहीं होगी।
उम्मीद तो एक नाम पर ज्यादा है
जबलपुर शहर का कांग्रेस कार्यकर्ता फिलहाल यही मानकर चल रहा है कि राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा को ही टिकट मिलेगा। वर्तमान स्थिति में उनके बराबरी के कद में कोई नेता नहीं है। तन्खा के नाम पर खेमेबाजी भी नहीं है। सभी स्थानीय नेता उनके नाम पर सहमति जता रहे हैं। जबलपुर शहर के दो विधायक प्रदेश कैबिनेट में मंत्री हैं। दोनों ने तन्खा के नाम पर जोर दिया है। कार्यकर्ताओं में भी तन्खा के नाम पर उत्साह है। ऐसे में संगठन तन्खा के नाम पर ही विचार करे, तो चौंकाने वाली बात नहीं होगी।

BJP Congress
shyam bihari Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned