उपभोक्ता फोरम का फैसला : बीमा क्लेम नहीं देना सेवा में कमी

आठ प्रतिशत ब्याज सहित साढ़े तीन लाख रुपए भुगतान का आदेश

 

By: reetesh pyasi

Published: 22 Mar 2020, 07:27 PM IST

जबलपुर। जिला उपभोक्ता फोरम ने बीमाकृत डम्पर जलने के बावजूद बीमा दावा की रकम भुगतान न करने के लिए बीमा कम्पनी को सेवा मे΄ कमी का दोषी पाया। फोरम के चेयरमैन राजेश श्रीवास्तव व सदस्य सुषमा पटेल की कोर्ट ने इ΄श्योरे΄स कम्पनी को आदेश दिया कि परिवादी को 10 जून 2016 से अदायगी के दिन तक आठ फीसदी वार्षिक ब्याज की दर से साढ़े तीन लाख रुपए का भुगतान किया जाए। उसे मानसिक पीड़ा व मुकदमे के खर्च के लिए सात हजार रुपए हर्जाना भी दिया जाए।

यह था मामला
मदन महल, जबलपुर निवासी रामेश्वर प्रसाद साहू की ओर से दायर परिवाद मे΄ कहा गया कि आवेदक का डम्पर तीन फरवरी 2016 को अचानक आग लगने के कारण जल गया। इस घटना की जानकारी अविलम्ब बीमा कम्पनी को दी गई। इसके आधार पर सर्वेयर नियुक्त कर अग्रिम कार्रवाई की गई। प्रक्रिया पूरी करके साढ़े तीन लाख रुपए क्लेम का निर्णय लिया गया। लेकिन, बाद मे΄ ड्राइवर का बयान विरोधाभासी होने के आधार पर क्लेम न देने का निर्णय ले लिया गया। अधिवक्ता अरुण कुमार जैन व विक्रम जैन ने तर्क दिया कि इस तरह नो-क्लेम करने का रवैया सेवा मे΄ कमी के दायरे मे΄ आता है। अत: क्षतिपूर्ति दिलवाई जाए। फोरम ने पूरे मामले पर गौर करने के बाद आवेदक का पक्ष मजबूत पाया। सुनवाई के बाद कोर्ट ने बीमा कम्पनी को आदेश दिया कि परिवादी को दो माह मे΄ हर्जाने सहित बीमा दावा की रकम का भुगतान किया जाए।

reetesh pyasi Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned