कोरोना का कहरः MP के इस जिले में 12 हजार से ज्यादा क्वारंटीन

-कोरोना पॉजिटिव और मरने वालों की गिनती में हेराफेरी का अंदेशा

By: Ajay Chaturvedi

Updated: 10 May 2020, 01:15 PM IST

जबलपुर. कोरोना का दंश यूं तो पूरी दुनिया और पूरा देश झेल रहा है। इसी कड़ी में अगर जबलपुर की बात करें तो यहां 12 हजार से ज्यादा कोरोना संक्रमितों या संदिग्धों को क्वारंटीन किया गया है। वैसे एक संतोषजनक बाद है कि जिले में कोरोना से मौत का आंकड़ा ज्यादा नहीं है। 28 लोग ऐसे भी हैं जो कोरोना को मात दे चुके हैं।

लेकिन जिले में कोरोना पॉजिटिव की संख्या में हेरा-फेरी का आरोप भी लगने लगा है। बताया जा रहा है कि कोविड वार्ड में उपचार के दौरान दम तोड़ने वाले वृद्ध की रिपोर्ट बाद में निगेटिव आई तो उसकी गिनती कोरोना से होने वाली मौत से बाहर कर दिया गया। उन्हें पूर्व तिथि से ही डिस्चार्च मान लिया गया। इस तरह अब जिले में कोरोना से होने वाली मौत का सरकारी आंकड़ा 29 की बजाय 28 कर दिया गया है।

यही नहीं मेडिकल कॉलेज में उपचार के दौरान मृत दो बच्चियों में भी करोनो का संक्रमण न होना बताया जा रहा है। बता दें कि नरसिंहपुर से भेजी गई दो बच्चियों को शुक्रवार को सांस लेने में दिक्कत पर ही मेडिकल कॉलेज में दाखिल किया गया था। इलाज के दौरान दोनों की मौत हो गई। इनके नमूने कोरोना जांच के लिए भेजे गए थे, गढ़ा सीएसपी के रिपीट टेस्ट नमूने की रिपोर्ट निगेटिव आई।

उधर सर्वोदय नगर के दो युवकों जिनकी रिपोर्ट शुक्रवार की रात निगेटिव मिली थी, उन दोनों को होम क्वारंटीन रहने को कहा गया है। लेकिन वो स्वास्थ्य विभाग के निर्देश की अवहेलना कर घूमते पाए गए। इसकी शिकायत पर स्वास्थय विभाग की एंबुलेंस पहुंची। उसके बाद दोनों संक्रमितों को कोविड केयर सेंटर में भर्ती किया गया। यानी 14 घंटे बाद।

बताया तो यह भी जा रहा है कि सीएमओचओ कार्यालय की ओर से सुखसागर को क्वारंटीन सेंटर के साथ ही कोविड केयर सेंटर बनाया गया है। यहां आने वालों की बेहतर देखभाल के लिए तीन नोडल सेंट्रल इंचार्ज भी तैनात किए गए हैं, लेकिन तीनों ही प्रभारी रात में नदारद रहते हैं।

Corona virus
Ajay Chaturvedi
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned