जबलपुर में कोरोना मचा रहा तांडव: 12 दिन में मिले 82 संक्रमित, घनी बस्तियों में सबसे ज्यादा संक्रमित

जबलपुर में कोरोना मचा रहा तांडव: 12 दिन में मिले 82 संक्रमित, घनी बस्तियों में सबसे ज्यादा संक्रमित

 

By: Lalit kostha

Published: 16 May 2020, 11:41 AM IST

जबलपुर। जिले में 14 दिन के लॉकडाउन-3 में संक्रमितों का आंकड़ा तेजी से बढ़ा है। शहर में 12 दिनों में करीब 82 कोरोना पॉजिटिव मिल चुके हैं। 18 मई से लॉकडाउन-4 की शुरुआत हो सकती है। प्रशासन ने कोरोना से जंग को लेकर स्वास्थ व्यवस्था मजबूत करना शुरू कर दिया है। प्रवासी मजदूर सहित बड़ी संख्या में लोग घर लौट रहे हैं। ऐसे में नए कोविड केयर और क्वारंटीन सेंटर तय किए गए हैं। मेडिकल कॉलेज और सुखसागर मेडिकल कॉलेज में कोरोना केयर के लिए आइसीयू बेड बढ़ाए जा रहे हैं। नई गाइडलाइन के अनुसार कोरोना संदिग्ध व संक्रमितों के उपचार और क्वारंटीन की तैयारी शुरू कर दी गई है। प्राइवेट अस्पतालों से भी अनुबंध किया जा रहा है।

संक्रमण की रोकथाम के लिए प्रशासन अलर्ट, सुविधाओं का होगा विस्तार
नए केयर सेंटर से लेकर आइसीयू की तैयारी

 

corona

प्राइवेट अस्पतालों को जांच के लिए मिलेगी किट-
18 मई से कंटेनमेंट एरिया के बाहर प्राइवेट अस्पताल और क्लीनिक शुरु होंगे। सरकारी अस्पतालों के साथ ही कुछ प्राइवेट अस्पतालों में फीवर क्लीनिक अलग से रहेंगे। कोरोना संदिग्धों की जांच के लिए प्राइवेट अस्पतालों को टेस्ट किट उपलब्ध कराया जाएगा। वे अपने स्तर पर प्रारंभिक जांच कर सकेंगे। प्राइवेट अस्पतालों के साथ ही क्वारंटीन सेंटर बनाए जा रहे अन्य संस्थाओं के कर्मियों को कोरोना से बचाव के लिए प्रशिक्षण भी देने की तैयारी है।


मॉडरेट को करेंगे हेल्थ सेंटर में शिफ्ट
प्रशासन ने संक्रमितों के लक्षण के आधार पर उन्हें भर्ती करने के लिए अलग-अलग अस्पतालों और संस्थाओं की सूची तैयारी की है। इसमें संदिग्धों के साथ ही बिना एवं सामान्य लक्षण वाले संक्रमितों को क्वारंटीन किया जाएगा। खर्च वहन करने पर संदिग्ध और सामान्य लक्षण वाले संक्रमित को चिन्हित होटल में क्वारंटीन किया जाएगा। जिन्हें ऑक्सीजन की जरुरत हो सकती है को हेल्थ सेंटर में भर्ती किया जाएगा। विक्टोरिया, रेलवे, मिलेट्री, एएसएफ सहित कुछ अस्पताल तय किए गए है।

 

Coronavirus: अहमदाबाद में सात हजार के करीब कोरोना पॉजिटिव मरीज

सुपर स्पेशलिटी में 20 बेड का आइसीयू
कोरोना डेडीकेटेड सेंटर नेताजी सुभाषचंद्र बोस मेडिकल कॉलेज है। इसमें गम्भीर संक्रमितों को भर्ती किया जाएगा। सुपर स्पेशलिटी अस्पताल के फस्र्ट फ्लोर में 20 बिस्तर का आइसीयू तकरीबन तैयार कर लिया गया है। कोविड सस्पेक्टेड वार्ड में 9 वेंटीलेटर है। कोरोना गम्भीर मरीजों के लिए और वेंटीलेटर की संख्या और बढ़ाने के प्रयास किए जा रहे हैं। अभी जिले में सरकारी और प्राइेवट अस्पताल मिलाकर तीन सौ से ज्यादा वेंटीलेटर हैं।

सुखसागर को भी सेंटर बनाने की तैयारी
सुखसागर मेडिकल कॉलेज की हॉस्पिटल बिल्ंिडग में क्वारंटीन सेंटर है। बिल्ंिडग में सेंट्रल ऑक्सीजन सिस्टम की लाइन सहित वेंटीलेटर्स के लिए भी जगह है। ऐसे में इसे मॉडरेट केस के उपचार के लिए तैयार करने पर विचार चल रहा है। अस्पताल में करीब 20 वेंटीलेटर होने बात सामने आयी है। लॉकडाउन 4 में कई गतिविधियों को सशर्त छूट मिलने की सम्भावना है। आवाजाही बढऩे से लोगों में सम्पर्क बढ़ेगा। विशेषज्ञों का मानना है कि अभी कोरोना वायरस का प्रभाव बना रहेगा।

coronavirus cases Coronavirus Cases in India Coronavirus Deaths
Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned