covid-19: कोरोना को मात दी, लेकिन दूसरी बीमारियों से हार गया पाटन का कारोबारी

कोरोना को मात दी, लेकिन दूसरी बीमारियों से हार गया पाटन का कारोबारी

By: Lalit kostha

Published: 26 Jun 2020, 11:47 AM IST

जबलपुर। कोरोना संक्रमण को मात देने के बाद पाटन का 50 वर्षीय कारोबारी दूसरी बीमारियों से हार गया। अपनी मां का उपचार कराने के लिए आए कोरोबारी विजय अग्रवाल को नेताजी सुभाषचंद्र बोस मेडिकल कॉलेज में जांच के दौरान 12 जून को कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। उनका सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में भर्ती करके उपचार किया जा रहा था।

मेडिकल कॉलेज में उपचार के दौरान तोड़ा दम

21 जून को रिपीट टेस्ट में कोरोबारी कोरोना निगेटिव मिला था। हृदय संबंधी और अन्य रोगों से पीडि़त होने के कारण उसे कोविड वार्ड से डिस्चार्ज करके मेडिसिन वार्ड के आइसीयू में शिफ्ट किया गया था। गुरुवार को मेडिकल कॉलेज में उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई। कारोबारी की कोरोना पॉजिटिव मिली 70 वर्षीय मां की भी उपचार के दौरान 12 जून को मेडिकल कॉलेज में मौत हुई थी। परिवार के कुछ अन्य सदस्य भी संक्रमित मिले थे। जो अभी मेडिकल कॉलेज के कोविड वार्ड में उपचाररत हैं।

 

corona_3.jpg

जिले का दूसरा केस - जिले में कोरोना पर जीत दर्ज करने के बाद जिंदगी हारने वाला यह दूसरा केस है। इससे पहले सिहोरा तहसील के ग्राम दरौली खुर्द निवासी 42 वर्षीय कोरोना संक्रमित मिली महिला की भी रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद दो दिन बाद मेडिसिन वार्ड में उपचार के दौरान 11 मई को मौत हो गई थी। विजय नगर निवासी आरके पांडे की 4 मई को मौत के बाद कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आयी थी। हालांकि उनकी मौत कोरोना संक्रमित के आंकड़ों में दर्ज है। उधर गुरुवार को उमरिया से रेफर होकर आई एक युवती की मौत के बाद संदिग्ध लक्षण पर कोरोना जांच के लिए नमूने लिए गए हैं। एक दो दिन में उसकी जांच रिपोर्ट आ सकती है।

मेडिकल से एक संक्रमित स्वस्थ होकर डिस्चार्ज
नेताजी सुभाषचंद्र बोस मेडिकल कॉलेज में भर्ती एक और कोरोना संक्रमित स्वस्थ्य होकर डिस्चार्ज हुआ। सराफा निवासी 42 वर्षीय व्यक्ति को 15 जून जांच में कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। गुरुवार को परीक्षण में स्वस्थ्य पाए जाने पर वह कोविड वार्ड से बाहर आया। घर लौट गया।

Show More
Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned