नहीं छोड़ा स्थान तो कॉलोनाइजर की जमीन कब्जाएगा निगम

अवैध कॉलोनियों को हर हाल में वैध करने के सरकार के निर्णय को लेकर शहर में काम जारी है

By: amaresh singh

Published: 16 May 2018, 04:02 PM IST

कटनी । अवैध कॉलोनियों को हर हाल में वैध करने के सरकार के निर्णय को लेकर शहर में काम जारी है। अधिसूचना जारी होने के बाद अब दावे-आपत्तियां मंगाए जा रहे हैं। इसमें कॉलोनियों में कॉलोनाइजर द्वारा खुली जमीन छोडऩे की स्थिति भी सामने आएगी। कॉलोनियों में विकसित कॉलोनी की तरह ही बच्चों के खेेलने के मैदान, पार्क आदि छोड़ा जाना जरूरी था।

नगर निगम कॉलोनाइजर की शेष बची भूमि को कब्जे में लेगी
यदि कॉलोनाइजरों ने वैधीकरण में शामिल कॉलोनियों में स्थान छोड़ा है तो नगर निगम द्वारा विकास राशि से उसे विकसित किया जाएगा। ऐसे स्थानों पर भवन निर्माण व प्लाटिंग के दौरान यदि खाली जमीन नहीं छोड़ी गई है और विकसित करने वाले उसे छोड़कर भाग गए हैं तो नगर निगम कॉलोनाइजर की शेष बची भूमि को कब्जे में लेगी। कब्जे में लेने के बाद उसमें मैदान, पार्क, ग्रीन लैंड विकसित कराने का कार्य किया जाएगा।


फिर होगा विस्तृत सर्वे
दावे-आपत्ति आने व उनके निराकरण के बाद कॉलोनियों का विकास और प्लाटों की स्थिति को लेकर एक फिर से विस्तृत सर्वे का कार्य नगर निगम द्वारा कराया जाएगा। इसके बाद किस कॉलोनी में क्या विकास करना है, इसकी स्थिति स्पष्ट होगी और उसी के अनुसार वैधीकरण कर कार्य प्रारंभ कराए जाएंगे।


पुराने सर्वेे से हटी 34 कॉलोनियां
पूर्व में नगर निगम ने शहर में 90 अवैध कॉलोनियों को चिन्हित किया था। जिसमें से सरकार के निर्णय के बाद कराए गए सर्वे में 56 कॉलोनी ही वैधीकरण के लिए पात्रता में शामिल हुई थीं। निगम ने ऐसी कॉलोनियों की पहले चरण में ही वैधीकरण करने अधिसूचना जारी कर दी थी। उसके बाद शेष बची 34 कॉलोनियों को हटाकर नए तरीके से सर्वे कर 35 कॉलोनियों
के नाम सूची में जोड़े गए हैं और उनकी भी अधिसूचना जारी कर दी गई है। इन कॉलोनियों में दावे आपत्ति के लिए एक माह का समय निर्धारित किया गया है। जिसके बाद कॉलोनियों की कमियां भी सामने आएंगी और आगे प्रक्रिया बढ़ाई जाएगी।

अवैध कॉलोनियों के वैधीकरण की प्रक्रिया जारी है
अवैध कॉलोनियों के वैधीकरण की प्रक्रिया जारी है। अधिसूचना के बाद दावे आपत्ति को एक माह का समय दिया गया है। कॉलोनियों में यदि कॉलोनाइजर ने खुली भूमि नहीं छोड़ी है तो पार्क आदि का विकास करने उसकी शेष जमीन को कब्जे में लेकर विकास प्रक्रिया अनुसार कराया जाएगा।
राकेश शर्मा, कार्यपालन यंत्री व प्रभारी अधिकारी नगर निगम

Show More
amaresh singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned