COVID-19 : सैम्पल लेते ही कोरोना संदिग्ध की हिस्ट्री ऑनलाइन पहुंच जाएगी लैब

एनआइसी ने लॉन्च किया एप

By: reetesh pyasi

Published: 10 May 2020, 08:17 PM IST

जबलपुर । कोरोना वायरस के संक्रमण की जांच के लिए संदिग्ध की हिस्ट्री जुटाने में लैब टेक्निीशियन को इंतजार नहीं करना पडेग़ा। सैम्पलर जिस समय संदिग्ध का सैम्पल लेगा, उसी समय आरटी-पीसीआर ऐप के जरिए यह जानकारी ऑनलाइन सम्बंधित लैब में पहुंच जाएगी। ऐसे में टेस्ट में आसानी होगी।
एनआइसी (नेशनल इनफॉर्मेटिक्स सेंटर) की ओर से लॉन्च इस ऐप से जिले में काम शुरू हो गया है। इसका एक फायदा यह भी है कि जिस संदिग्ध का सैम्पल लिया गया है, उसकी रिपोर्ट भी वह खुद देख सकेगा।

अभी मेंन्युअल फार्म पर था डाटा
अभी तक यह काम मैनुअल फॉर्म पर होता था। अब दोनों प्रारूप में जानकारी भरी जाएगी। अभी सैम्पल लेने वाले टेक्नीशियन संदिग्ध का नाम, पता, उसकी देश-विदेश यात्रा, होम क्वारंटीन, किसी अस्पताल में इलाज या कोई गम्भीर बीमारी सहित तमाम प्रकार की जानकारी एकत्र करता है। सैम्पल के साथ ही यह जानकारी जाती थी। लेकिन, अब केवल सैम्पल जाएगा। उसकी जानकारी ऑनलाइन लैब पहुंच जाएगी। अभी की स्थिति में जिले के 14 सैम्पल कलेक्शन सेंटर और 55 सैम्पल कलेक्टर को ऐप से जोड़ा गया है।

विश्लेषण होगा आसान
अभी जिले के अलावा पूरे प्रदेश में मैनुअल जानकारी के अलावा प्रदेश सरकार की ओर से तैयार किए गए सार्थक ऐप पर जानकारियां एकत्रित की जाती हैं। लेकिन आरटी-पीसीआर एप राष्ट्रीय स्तर पर काम करेगा। इसके जरिए जिले से लेकर पूरे देश में सैंपल कलेक्शन एवं डाटा का संग्रहण आसान हो सकेगा। यही नहीं मेडिकल कॉलेज अस्पताल तथा शहर में ही स्थित एनआईआरटीएच लैब के अलावा भोपाल, इंदौर और दूसरी जगह की लैब भी इससे जुड़ी रहेंगी।

आरटी-पीसीआर एप से एंट्री प्रारंभ कर दी गई है। इस संबंध में सैंपल कलेक्टर को प्रशिक्षण दिया गया था। इसी प्रकार सार्थक एप और मैनुअल जानकारी भी एकत्रित की जा रही है ताकि किसी भी प्रकार की गलती से बचा जा सके।
आशीष शुक्ला, जिला सूचना विज्ञान अधिकारी

reetesh pyasi Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned