Covid-19 Alert : कोरोना से लड़कर ठीक हुए, अब आ रहीं ये परेशानियां

पोस्ट कोविड ओपीडी में मरीजों की कतार, 25 से ज्यादा प्रकार के रोग आए सामने

By: reetesh pyasi

Published: 27 Jun 2021, 07:48 PM IST

जबलपुर। कोरोना की जकड़ में आने वाले संक्रमण को मात देने के बाद कोई ना कोई नई बीमारी से घिर रहे हैं। शहर में कोरोना के नए मरीजों के कम होने के बाद भी पोस्ट कोविड ओपीडी में पीडि़तों का आना जारी है। इसमें कोरोना निगेटिव होने के बाद भी बुखार बने रहने, सांस फूलने, पेट दर्द, मानसिक तनाव जैसी शिकायत करने वाले मरीजों की संख्या ज्यादा है। दिल, लीवर, आंत में संक्रमण की समस्या से पीडि़त मरीज भी आ रहे हैं। आइसीयू में ज्यादा दिन तक भर्ती रहे व्यक्तिअनिद्रा की समस्या से जूझ रहे हैं। इसके अलावा कुछ मरीजों में दुर्लभ लक्षण भी मिल रहे हैं। इनका पता नहीं चलने से कोरोना से ठीक होने के बाद मरीज की सेहत तेजी से बिगड़ रही है। ऐसे मरीजों का उपचार करने वाले डॉक्टर भी नए लक्षणों को लेकर हैरान हैं। अब तक करीब 25 से ज्यादा प्रकार के पोस्ट कोविड इफेक्ट मरीजों में देखें जा चुके हैं।

शुगर, अपच, थकान से ज्यादातर परेशान
पोस्ट कोविड इफेक्ट में ज्यादातर मरीज ठीक होने के बाद सांस फूलने, थकान और शुगर की समस्या से जूझ रहे हैं। विशेषज्ञों के अनुसार कोरोना होने पर उपचार में दी जाने वाली कुछ दवाओं का सीधा असर लीवर, किडनी और हार्ट पर पड़ रहा है। इससे अपच, पेटदर्द, बेचैनी, थकान, हार्ट अटैक जैसी समस्या हो रही है।

ये भी समस्याएं पड़ रहीं भारी
पोस्ट कोविड ओपीडी में 101 से 103 डिग्री तक बुखार और कमजोरी की शिकायत लेकर कई मरीज आ रहे हैं। इनका चेस्ट सीटी स्कैन और एक्स-रे कराने पर रिपोर्ट नॉर्मल आ रही है। लेकिन, अन्य जांच कराने पर यूरिन, लीवर और आंतों के संक्रमण से पीडि़त मिल रहे हैं। विशेषज्ञ बता रहे है कि स्टेरॉयड देने के कारण मरीजों में अन्य बैक्टीरियल इंन्फेक्शन का खतरा रहता है।

एक्सपर्ट कमेंट
पोस्ट कोविड में लंग्स फायब्रोसिस, कार्डियक, मानसिक समस्या के साथ डायबिटीज के केस ज्यादा है। मरीज सांस फूलने, थकान होने की शिकायत कर रहे हैं। जांच में कई मरीजों के सीआरपी, डी-डायमर रिपोर्ट नॉर्मल है। कोरोना होने पर स्टेरॉयड देने और वायरस के कारण मेटाबालिज्म प्रभावित होता है। इसके कारण शुगर बढ़ी मिल रही है। कोरोना के कारण रोग प्रतिरोधक क्षमता भी कम रह जाती है। इसके कारण भी कुछ बीमारियां हो रही हैं। हार्ट इनलॉर्ज होने से कुछ लोगों का बीपी लो हो रहा है। कोविड से ठीक होने के बाद मरीजों डॉक्टर से नियमित परामर्श लेते रहना चाहिए। डॉक्टर से सलाह लेकर योग, प्राणायम, ब्रीदिंग एक्सरसाइज करना चाहिए। खान-पान अच्छा रखना आवश्यक है।
डॉ. आरएस शर्मा, मेडिसिन एवं हृदय रोग विशेषज्ञ

reetesh pyasi Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned