Big Breaking News ट्रेन में मासूम ने तोड़ा दम, घंटो सीने से चिपकाए प्लेटफॉर्म पर मदद मांगते रहे माता-पिता...

मासूम के शव को पहले ले गए रेलवे अस्पताल, फिर माता-पिता समेत स्टेशन पर लावारिस छोड़ा

By: virendra rajak

Published: 21 May 2020, 10:10 PM IST

रेलवे अस्पताल और एंबुलेंस का मामला, ट्रेन में यात्रा के दौरान हुई थी मासूम की मौत

जबलपुर, रेलवे का अमानवीय चेहरा गुरुवार को सामने आया। यहां ट्रेन में यात्रा के दौरान एक मासूम की मौत हो गई। सूचना पर मासूम और उसके माता-पिता को जबलपुर रेलवे स्टेशन पर उतारा गया। रेलवे अस्पता की एंबुलेंस से रेलवे अस्पताल ले जाया गया, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। लेकिन रेलवे अस्पताल के डॉक्टर्स और कर्मियों ने अमानवयीता का परिचय दिया। शव समेत माता-पिता को एंबुलेंस में बैठाकर प्लेटफॉर्म के बाहर छोड़ दिया गया। आधा घंटे बाद जीआरपी को इसकी सूचना लगी, तब तीनों को मेडिकल भेजा गया। वहां शव के साथ मासूम के माता-पिता की भी कोविड-19 की जांच होगी।
जानकारी के अनुसार यूपी के गोरखुपर जिले के देवलिया निवासी दम्पती एक वर्षीय बेटी साथ मुम्बई में रहकर काम करता था। तीनों गुरुवार को श्रमिक एक्सप्रेस से देवलिया जा रहे थे। शाम को ट्रेन जबलपुर स्टेशन पहुंचती, इसके पहले मासूम का स्वास्थ्य खराब हो गया। ट्रेन में ही उसकी मौत हो गई। रेलवे अधिकारियों को इसकी जानकारी लगी, तो शव को उतारकर रेलवे अस्पताल भेजा गया।
एंबुलेंस ले गई, फिर छोड़ गई
एंबुलेंस शव समेत दंपति को रेलवे अस्पताल ले गई। जहां परीक्षण के बाद पता चला कि मासूम की मौत हो गई है। इसके बाद फिर से दंपति को एंबुलेंस में शव के साथ बैठाया गया। एंबुलेंस चालक तीनों को प्लेटफॉर्म क्रमांक एक के बाहर छोडकऱ चला गया। आश्चर्य की बात तो यह है कि इसकी जानकारी किसी को भी नहीं दी गई।
सीने से लगा रो रही थी मां
मासूम के शव को सीने से लगाकर उसकी मां रो रही थी। पिता बेसहाय खड़ा था, कि कोई मदद कर दे। लेकिन रेलवे अधिकारियों ने उसकी एक नहीं सुनी। लगभग आधे घंटे बाद जीआरपी को इसकी सूचना मिली। थाना प्रभारी मंजीत सिंह वहां पहुंचे। पूरी घटना की जानकारी ली।
108 से विक्टोरिया फिर मेडिकल भेजा
तत्काल 108 एंबुलेंस को फोन कर बुलाया गया। जिसमें शव समेेत दंपति को विक्टोरिया अस्पताल भेजा गया। वहां से तीनों को मेडिकल अस्पताल ले जाया गया। जहां तीनों का कोविड 19 टेस्ट होगा।
वर्जन
ट्रेन में एक वर्षीय आकृति की मौत हो गई थी। शव को रेलवे अस्पताल ले जाया गया, लेकिन बाद में एंबुलेंस चालक शव और उसके माता-पिता को प्लेटफॉर्म पर छोडकऱ चला गया। सूचना मिलने के बाद तीनों को एंबुलेंस से मेडिकल भेजा गया।
मंजीत सिंह, थाना प्रभारी, जीआरपी

virendra rajak Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned