सोशल मीडिया के डिलिट किए गए फोटो-वीडियो भी हो जाएंगे रिकवर

स्टेट सायबर सेल में उपलब्ध हुई जांच की अत्याधुनिक तनकीक, अभी तक प्रदेश में सिर्फ भोपाल में थी ये सुविधा

By: santosh singh

Published: 23 Apr 2020, 10:06 AM IST

जबलपुर। कोरोना महामारी के बीच सोशल नेटवर्क पर लोगों की गतिविधियां बढ़ गई हैं। ऑनलाइन ट्रांजेक्शन से लेकर सोशल नेटवर्क पर एक-दूसरे से बातचीत भी हो रही है। ऐसे में कुछ लोग सोशल माध्यमों का दुरुपयोग भी कर रहे हैं। कई बार लोग पुलिस स बचने के लिए सोशल मीडिया पर फोटो-वीडियो अपलोड करने के बाद उसे डिलिट कर देते हैं। अब ऐसे लोग भी पुलिस के शिकंजे में फंसने से नहीं बच पाएंगे। स्टेट सायबर सेल में अत्याधुनिक जांच की तकीनीक उपलब्ध हुई है। यह सुविधा अभी भोपाल में थी।
स्टेट सायबर सेल जबलपुर जोन के पुलिस अधीक्षक अंकित शुक्ला ने बताया कि राज्य सायबर मुख्यालय भोपाल में विशेष पुलिस महानिदेशक राजेंद्र कुमार और अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक मिलिंद कांसकर के निर्देश पर ये अत्याधुनिक संसाधन जबलपुर में उपलब्ध कराया गया। इसकी जांच भी शुरू कर दी गई। जबलपुर सहित रीवा, शहडोल, सीधी व सिंगरौली से सायबर सेल को संदिग्धो के 43 मोबाइल मिले थे। इन जब्त मोबाइलों में सोशल नेटवर्क पर अपलोड किए गए फोटो-वीडियो डिलिट कर दिया गया था। सभी का डेटा रिकवर कर वहां की पुलिस को डाटा उपलब्ध करा दिया गया। यह कोर्ट में भी अहम साक्ष्य साबित होगा और इस तरह के अपराधियों को सजा दिलाने में भी मदद मिलेगी।
अफवाह फैलाने वालों पर हुई कार्रवाई-
मोबाइल का डिजिटल फॉरेसिक्स करने के लिए भोपाल से नए मोबाइल एक्स ट्रैक्शन किट मिला है। इस मोबाइल डेटा एक्सट्रेक्टर की मदद से सायबर सेल ने डाटा रिकवर करने की कवायद शुरू कर दी है। कोरोना के बीच तरह-तरह के सोशल अफवाह फैलाने वालों पर भी पुलिस इसकी मदद से अंकुश लगा पाएगी।

Show More
santosh singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned