अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता: दिव्यांग जानकी उज्बेकिस्तान में फहराएंगी परचम

स्पर्धा में शामिल होने आर्थिक तंगी के चलते वीजा के लिए नहीं थे 80 हजार रुपए, कलेक्टर की पहल पर जनसहयोग से मिली राशि

सिहोरा।  सिहोरा के ग्राम कुर्रो निवासी दिव्यांग जानकी गौंड अब उज़्बेकिस्तान में अपना परचम लहराएगी। परिवार की आर्थिक तंगी के चलते अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में चयन के बावजूद वहां जाने के लिए वीजा और अन्य कार्रवाई के लिए 80 हजार रुपए की जरूरत थी। इतनी बड़ी राशि का इंतजाम नहीं होने से जानकी का स्पर्धा में शामिल होना संभव नहीं हो पा रहा था। महिला दिवस पर तरुण संस्कार संस्था के सदस्यों ने मामले की जानकारी सिहोरा एसडीएम फ्रेंक नोविल ए को दी। उन्होंने मौके पर आपसी कर्मचारियों के सहयोग से 20 हजार की राशि की, साथ ही 5 हजार स्वयं प्रदान की।

लोगों ने किया 55 हजार रुपए का सहयोग
एसडीएम ने जानकारी कलेक्टर महेश चंद चौधरी को दी। कलेक्टर की पहल पर लोगों ने भरपूर सहयोग करते हुए 55 हजार रुपए की राशि उपलब्ध कराई, जिससे जानकी कुर्रो (सिहोरा) निवासी की उड़ान तय हो गई। जानकी के चैम्पियन जीतने पर ओलंपिक में चयन पक्का हो जाएगा।

दो गोल्ड मेडल जीते
मालूम रहे कि जानकी दो राष्ट्रीय ब्लांइड जूडो प्रतियोगिताओ में गोल्ड मेडल जीत चुकी हैं। 16 से 28 मार्च तक उज़्बेकिस्तान (ताशकंद) में आयोजित एशियन ब्लाइंड प्रतियोगिता में जानकी का चयन हुआ है।
Abha Sen
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned