script किसानों को पर्ची तो दी, मुआवजा किस नियम से मिलेगा, किसी को पता ही नहीं | Don't know under what rules the compensation will be given | Patrika News

किसानों को पर्ची तो दी, मुआवजा किस नियम से मिलेगा, किसी को पता ही नहीं

locationजबलपुरPublished: Dec 12, 2023 06:44:43 pm

Submitted by:

prashant gadgil

मंडी सचिव ने जिला प्रशासन को शासन से राहत राशि दिलाने के लिए लिखा है पत्र

kisan
kisan

जबलपुर . कृषि उपज मंडी में किसानों के आंदोलन के बाद जिस मुआवजा राशि की घोषणा की गई थी, उसके भुगतान में मुश्किल आ सकती है। उस समय मंडी सचिव की तरफ से सात सौ रुपए प्रति बोरी राशि दिलाने के लिए पर्ची कटाई गई थी। ऐसी 680 से अधिक पर्चियां किसानों को दी गई थीं। लेकिन, अभी तक शासन प्रशासन की तरफ से इस दिशा में कोई कदम नहीं उठाया गया। यह मुआवजा किन नियमों के तहत देने की बात कही गई, इस पर भी सवाल उठ रहे हैं। ऐसे में किसान असमंजस में हैं।

सहजपुर मंडी में मटर के दाम कम मिलने से नाराज किसानों ने जबलपुर हाईवे जाम कर दिया था। उन्होंने कई वाहनों के टायर पंक्चर कर दिए थे। उसके बाद किसान विजयनगर कृषि उपज मंडी आ गए। उन्होंने गेट पर ताला जड़ दिया। इससे न किसानों का माल अंदर गया और व्यापारियों की तरफ से खरीदे गए मटर के वाहन बाहर निकल पाए। आनन-फानन में मंडी सचिव की तरफ से आंदोलन को समाप्त करने के लिए मुआवजा की राशि देने की घोषणा कर दी गई।

अब देखे जा रहे हैं नियम

खराब मटर की कीमत को लेकर किसानों में फिर से आक्रोश है। वे मुआवजा राशि के लिए पर्ची लेकर मंडी कार्यालय पहुंच रहे हैं। लेकिन, वहां से कोई जवाब अभी मिल रहा। कहा जा रहा है कि शासन स्तर पर मामला है। वहां से आदेश आने पर यह राशि उनके खातों में भेजी जाएगी। इस बीच आदेश को लेकर विवाद भी बढ़ रहा है। किस नियम के तहत इसका भुगतान किया जाए और आदेश कैसे कर दिया, इसको लेकर वे अपनी जिम्मेदारियों को एक-दूसरे पर टाल रहे हैं। सूत्रों ने बताया कि वरिष्ठ अधिकारी इस पर सहमत नहीं हैं। इसलिए शासन को पत्र भेजने के लिए और नियम खंगाले जा रहे हैं।

ट्रेंडिंग वीडियो