MP के इस शहर में आना चाहते है बड़े उद्योगपति और MNC, ये है वजह

जमीनों की कराई एडवांस बुकिंग

By: Premshankar Tiwari

Published: 12 Mar 2018, 08:39 AM IST

जबलपुर। मध्यप्रदेश में उद्योगों की दृष्टि से पिछड़े माने जाना वाला एक शहर अचानक उद्योगपतियों और बड़ी कंपनियों की पहली पसंद बन गया है। देश के केंद्र में स्थित इस शहर में सभी प्रमुख कंपनियां निवेश के लिए जगह तलाश रही है। इसके चलते शहर के इंडस्ट्रिल एरिया में प्लॉट्स के दाम अचानक बढ़ गए है। नए औद्योगिक केंद्र के विकास के पहले ही उसके सभी प्लॉट एडवांस में बुक हो चुके है। जबलपुर को लेकर अचानक उद्योगपतियों और बड़ी कंपनियों के सीईओ के नजरिए में इस बदलाव की बड़ी वजह सरकार द्वारा लागू किए जा रहे नए इ-वे बिल को माना जा रहा है।

इस चुनौती ने बढ़ाई मांग
जीएसटी लागू होने के बाद बड़ी उत्पादक कम्पनियों से लेकर लघु उद्योगों के लिए एक समान कीमत पर देशभर में माल मुहैया कराना बड़ी चुनौती है। इस चुनौती ने देश के केन्द्र में स्थित जबलपुर के लिए बड़ा उत्पादन केन्द्र बनने की राह खोल दी है। दरअसल उद्योगों की स्थापना के लिहाज से लम्बे अरसे तक सूखा झेलने वाले महाकोशल के केंद्र को लेकर उद्योग जगत का नजरिया बदलने लगा है। नए औद्योगिक क्षेत्र उमरिया-डुंगरिया में उद्योगों की स्थापना के लिए सौ फीसदी प्लाटों की बुकिंग को बड़ा संकेत माना जा रहा है। जबकि वहां जमीनों के विकास में अभी छह महीने का समय लगेगा।

एक समान लगेगा किराया भाड़ा
जानकारों का मानना है कि यहां से देशभर में माल का किराया भाड़ा एक जैसा पड़ेगा। यहां से माल की आपूर्ति दिल्ली, देश के दक्षिणी, उत्तरी व पूर्वी इलाकों के मुकाबले सस्ती पड़ेगी। एेसे में बड़े निवेशक यहां आकर अपनी प्रोसेसिंग यूनिट स्थापित करने से लेकर लॉजिस्टिक सेंटर बनाने के लिए काम करेंगे।'

नए औद्योगिक क्षेत्रों की सम्भावना बढ़ी
जबलपुर-भोपाल एक्सप्रेस वे पर तेजी से काम होना है। इस सड़क के चौड़ीकरण के बाद शहपुरा के आसपास संसाधनों की सहज उपलब्धता के आधार पर नया औद्योगिक क्षेत्र बनने की सम्भावना जताई जा रही है। इसके अलावा चरगवां के आसपास भी औद्योगिक क्षेत्र विकसित करने की सम्भावनाओं पर काम शुरू हो गया है।

लॉजिस्टिक हब बनने की संभावना
जिला उद्योग केंद्र के महाप्रबंधक देवव्रत मिश्रा के अनुसार जीएसटी ने जबलपुर में नए उद्योगों की स्थापना व लॉजिस्टिक हब बनने की सम्भावना बढ़ा दी है। देशभर के उद्योगपति यहां उद्योगों व अपने गोडाउन स्थापित करने को लेकर अब रुचि दिखा रहे हैं। नए औद्योगिक क्षेत्र उमरिया डुंगरिया में प्लाटों की सौ प्रतिशत एडवांस में बुकिंग इसका बड़ा संकेत है।

चारों महानगरों से कनेक्टिविटी
महाकोशल चेम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज के रवि गुप्ता के अनुसार जीएसटी लागू होने के बाद सभी बड़े उत्पादकों के सामने एक समान कीमत पर देशभर में माल मुहैया कराना बड़ी चुनौती है। एेसे में जबलपुर देश का केंद्र होने के साथ चारों ओर बेहतर कनेक्टिविटी के कारण माल उत्पादन के लिए बड़ा औद्योगिक केन्द्र के साथ ही सप्लाई के लिए लॉजिस्टिक हब स्थापित करने श्रेष्ठ विकल्प बन गया है।

इन काम से देश में नाम
320 सीटर तक विमान उतर सकें गे
जबलपुर देंश का सेंटर प्वाइंट
ब्रॉडगेज का काम पूरा होते ही नागपुर के जरिए दक्षिण भारत से सीधी रेल कनेक्टिविटी
हैदराबाद, मुम्बई, दिल्ली से बढ़ेगी एयर कनेक्टिविटी
चारों दिशाओं में बन रहा बेहतर सड़क नेटवर्क
माल की कीमत में एकरूपता बड़ी चुनौती

GST
Show More
Premshankar Tiwari Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned