इंजीनियिरंगि के छात्र दिखाएंगे तकनीकी की प्रतिभा

स्मार्ट सिटी मिशन को बढ़ावा देगा हैकथॉन, आरजीपीवी के तत्वावधान में होगा आयोजन

 

By: Mayank Kumar Sahu

Published: 19 May 2021, 09:50 PM IST

जबलपुर।
स्मार्ट सिटी मिशन को बढ़ावा देने के लिए इंजीनियिरंगि के छात्र अपनी प्रतिभा का जलवा दिखाएंगे। राजीव गांधी प्रोद्योगिकी विवि की मदद से स्टेट लेबल पर यह आयोजन होगा जो कि डिजीटल इंडिया प्रोगाम पर आधारित होगा। जबलपुर संभाग के डिप्लोमा और इंजीनियरिंग कॉलेजों के स्टूडेंट्स इसमें भाग लेंगे। आरजीपीवी द्वारा इसके अंतर्गत जबलपुर जोन में ज्ञान गंगा जबलपुर को मेजबानी सौंपी गई है। जबलपुर जोन का यह कॉम्पटीशन ऑनलाईन मोड में 2 जून को होगा। फाईनल कॉम्पटीशन राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विवि में 11 जून को होगा। हैकथॉन 1.0 स्टेट लेवल का पहला संस्करण है जो चार जोन में मई-जून के बीच होने जा रहा है। इसके अंतर्गत इंदौर, भोपाल, जबलपुर और ग्वालियर जैसे मुख्य महानगरों के इंजीनियरिंग इंस्टीट्यूट को मेजबानी करने का अवसर मिलेगा। बेहतरीन तकनीक का प्रदर्शन करने वाले छात्रों को आरजीपीवी की ओर से 3 हजार रुपए से लेकर 50 हजार रुपए तक की राशि दी जाएगी। इसमें स्मार्ट सिटी जबलपुर, इन्क्यूबेशन सेंटर जबलपुर भी सहभागिता कर रहा है।

इनोवेशन स्किल में मिलेगी मदद
कॉलेज के निदेशक एवं संभाग कन्वीर डॉ. पंकज गोयल ने कहा कि हैकथॉन 1.0 राज्य स्तरीय हैकथॉन का पहला संस्करण। यह आयोजन युवा छात्रों को वास्तविक जीवन की समस्याओं की पहचान करने और उनके लिए आधुनिक समाधानों को सोचने, डिजाइन करने और विकसित करने के लिए एक मंच प्रदान करेगा। यह हैकथॉन छात्रों को अपने कौशल और इनोवेशन की क्षमता को बढ़ाने में मदद करेगा।

डिजीटल इंडिया को करेगा प्रमोट
इस विजन के तहत, यह हैकथॉन वर्किंग मॉडल की मदद से गवर्नमेंट, रिसोर्सेज, वेस्ट मैनेजमेंट, ट्रेफिक, सिक्योरिटी आदि के डिजिटल मैनेजमेंट मदद करेगा। हैकथॉन का उद्देश्य स्मार्ट सिटीज मिशन, आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश सरकार की पहल और डिजीटल इंडिया प्रोग्राम को प्रोत्साहित करना है। ताकि प्रतिभागी स्मार्ट सिटीज की समस्याओं पर एक लाइव प्रोजेक्ट तैयार कर सकें। आरजीपीवी ने 25 मई तक रजिस्ट्रेशन कराने का समय छात्रों को दिया है।

Mayank Kumar Sahu Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned