scriptEnthusiasm to form new city government, challenges are thousand | नई नगर सरकार बनाने का उत्साह, लेकिन चुनौतियां हजारों हैं | Patrika News

नई नगर सरकार बनाने का उत्साह, लेकिन चुनौतियां हजारों हैं

जबलपुर जबलपुर में भी निकाय चुनाव के बाद शपथ सात को, विकास पर रखना होगा फोकस

जबलपुर

Updated: August 01, 2022 06:30:58 pm

जबलपुर। नव निर्वाचित नगर सरकार 7 अगस्त को शपथ लेगी। प्रदेश के पहले नगरीय निकाय जबलपुर नगर निगम में 2 साल बाद फिर निर्वाचित नगर सत्ता कार्यभार संभालने वाली है। महापौर जगत बहादुर सिंह अन्नू व सभी 79 वार्डों के निर्वाचित पार्षद शपथ लेंगे। आयोजन की तैयारियां जोरों पर हैं। भाजपा व कांग्रेस के प्रमुख नेता भी शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होंगे। आयोजन के लिए वेटरनरी कॉलेज मैदान में बड़ा डोम बनाने का निर्णय लिया गया है। लंबे समय तक नगर सत्ता की बागडोर प्रशासक के हाथों में रहने के बाद फिर से निर्वाचित नगर सरकार के हाथों में आने वाली है। ऐसे में उसके सामने कई चुनौतियां भी होंगी। जिनमें अनियोजित निर्माण कार्यों से बिखरे शहर को व्यविस्थत करना, अधूरे काम पूरे कराना, नए वार्डों का पिछड़ापन दूर करना, विस्थापितों का समग्र पुनर्वास शामिल है। इन कामों के लिए फंड का इंतजाम सबसे बड़ी चुनौती होगी।

Nagar Nigam Jabalpur
Nagar Nigam Jabalpur

अनियोजित व अधूरे निर्माण कार्य

रांझी से घमापुर के बीच 24 करोड़ की लागत से निर्माणाधीन स्मार्ट सड़क का निर्माण कार्य शुरू हुए 4 साल बीत गए लेकिन आज तक निर्माण कार्य पूरा नहीं हो सका। अधूरे निर्माण कार्य के कारण घमापुर चौराहा छोर में बॉटलनेक बनता है। इसी तरह से राइट टाउन स्टेडियम के आसपास, होम साइंस कॉलेज से लेकर मदनमहल थाना मार्ग में बेतरतीब काम से क्षेत्रीयजन परेशान हैं। सीवर लाइन के बेतरतीब काम के कारण धनवंतरि नगर में कहीं गहरा गड्ढा खोद दिया गया है तो कहीं मिट्टी का पहाड़ लगा है। फ्लाईओवर की साइट में महानद्दा से एलआईसी, मदनमहल रेलवे स्टेशन से बाबूराव परांजपे चौक, रानीताल होते हुए बल्देवबाग तक अनियोजित काम के कारण शहर की तस्वीर बिगड़ी हुई है।

नए वार्डों का पिछड़ापन

वर्ष 2014 में हुए परिसीमन से 55 गांव नगर निगम की सीमा में शामिल कर 9 नए वार्ड बनाए गए थे, इन वार्डों के लोगों को चमचमाती सपाट सड़कों, नर्मदा जल आपूर्ति, स्मार्ट एलईडी लाइट से लेकर तेजी से विकास के सपने दिए गए। लेकिन 7 साल से ज्यादा समय बीत जाने के बाद भी डु़मना, चकदेही इलाका जल संकट से जूझ रहा है। मानेगांव, मोहनिया इलाके में ढंग की सड़क नहीं बनीं। कचनारी, महगवां इलाकों में निस्तार के पानी की निकासी के लिए नाले-नालियां भी नहीं बने। ऐसे में नए वार्डों का पिछड़ापन दूर करना भी नई नगर सरकार के सामने चुनौती होगी।

विस्थापितों का समग्र पुनर्वास

मदन महल पहाड़ी से विस्थापित हुए सैकड़ों परिवार पुनर्वास स्थल तेवर में बांस-बल्ली, तिरपाल के सहारे छोटे बच्चे, बुजुर्गों को साथ लेकर दिन-रात बिता रहे हैं। तेज आंधी-तूफान में तिरपाल फट जाती है। इन परिवारों के लोगों को तेवर में पट्टा देकर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत पक्का घर बनवाने की बात कही गई थी, लेकिन अभी तक उन्हें जमीन के पट्टे भी नहीं मिले।

स्वच्छ पेयजल की आपूर्ति

शहर की बड़ी आबादी अभी भी पेयजल के लिए बोरवेल, हैंडपंप पर निर्भर है। जल शक्ति मिशन के तहत गांवों में भी हर घर नल से जल पहुंचाने की कवायद चल रही है। लेकिन नगर के बड़े हिस्से तक नर्मदा जल पहुंचाने के लिए अभी तक जलापूर्ति नेटवर्क तैयार नहीं हो सका है। इसके कारण नए वार्डों के इन इलाकों में हर साल गर्मी में भीषण जल संकट के हालात बनते हैं।

जलभराव से मुक्ति

29 जून को हुई साढ़े तीन इंच बारिश में नगर के पचास से ज्यादा इलाकों में जलभराव के हालात बने थे। इनमें से तीस ऐसे नए इलाके थे जिनमें जलभराव हुआ। इससे पहले पिछले दो सालों में गुलौआ इलाके व तिलहरी क्षेत्र में ड्रेनेज सिस्टम सही नहीं होने से जलभराव के कारण बाढ़ के हालात बने और रेस्क्यू दल को नाव चलाकर राहत व बचाव कार्य करना पड़ा। ऐसे में नगर सरकार के सामने नगर के ड्रेनेज सिस्टम को दुरुस्त कर नगरवासियों को जलभराव से निजात दिलाने की भी चुनौती होगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

प्रधानमंत्री मोदी आज गोवा में ‘हर घर जल उत्सव’ को करेंगे संबोधितJanmashtami 2022: वृंदावन के श्री बांके बिहारीजी मंदिर में होती है जन्माष्टमी की धूम, जानिए इस मंदिर से जुड़ी खास बातेंकर्नाटक की राजनीति: येडियूरप्पा के लिए भाजपा ने क्यों बदला अलिखित नियमदिग्विजय सिंह का बड़ा बयान, बिल्डरों के साथ मिलकर कृषि कॉलेज की जमीन को बेच रहे अफसर-नेतापंजाब के अटारी बॉर्डर के पास दिखा ड्रोन, BSF की फायरिंग के बाद पाकिस्तान की तरफ लौटाविश्व कुश्ती चैंपियनशिप में प्रियांशी ने जीता कांस्यकौन हैं IAS राजेश वर्मा, जिन्हें किया गया राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का सचिव नियुक्त?IND vs ZIM: शिखर धवन और शुभमन गिल की शानदार बल्लेबाजी, भारत ने जिम्बाब्वे को 10 विकेट से हराया
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.