मप्र में फैली महामारी, डेंगू से हो रही मौतें

मप्र में फैली महामारी, डेंगू से हो रही मौतें

Lalit kostha | Publish: Sep, 05 2018 11:22:20 AM (IST) Jabalpur, Madhya Pradesh, India

मप्र में फैली महामारी, डेंगू से हो रही मौतें

जबलपुर। प्रदेश में बारिश का कहर जारी है। इससे जहां बारिश से संबंधित बीमारियों से लोग परेशान हैं, वहीं मौतें भी हो रही हैं। जबलपुर में डेंगू से हुई मौत के बाद प्रशासन जाग गया है। अब घर घर लार्वा खोजा जा रहा है। शहर में डेंगू, चिकनगुनिया से एक महिला सहित की अब तक चार संदिग्ध मौत को लेकर लापरवाही के आरोपों से घिरने के बाद मंगलवार को ज्वाइंट टीम एक्शन में आई। मलेरिया विभाग के कर्मियों के साथ नगर निगम, आइसीएमआर और स्वास्थ्य विभाग के कर्मी भी मैदान में उतरे। चारों विभागों की संयुक्त टीम में शीतलामाई वार्ड की बस्तियों में सुबह से शाम तक सर्वे किया। इसमें तकरीबन हर दूसरे घर में मच्छर के लार्वा मिले। मौके पर ही लार्वा का विनिष्टीकरण किया गया। क्षेत्र में बीमार मिले संदिग्धों के खून के नमूने लिए गए।

news fact- मौत के बाद जागा प्रशासन, हर दूसरे घर में मिले लार्वा

मिट्टी के पात्र में मिले लार्वा-
टीम ने जांच शुरू की, तो कई घरों में घर के बाहर रखे मिट्टी के बर्तनों, पुराने टायर, कूलर और पानी की टंकियों के पानी में असंख्य लार्वा तैरते मिले। हर दूसरे घर में यह हालात मिलने से जांच टीम में शामिल कर्मियों की होश उड़ गए। उन घरों पर टीम ने फोकस किया, जहां मिट्टी के बर्तन बनाने का काम होता है। इन्हें खासतौर पर निर्मित मिट्टी के बर्तनों को उलटा करके रखने की नसीहत दी है।

अस्पतालों में कम नहीं हो रही कतार -
स्वास्थ्य विभाग मौसमी बुखार को लेकर स्थिति नियंत्रण में होने का दावा कर रहा है। लेकिन, अस्पताल में बुखार की शिकायत लेकर आने वाले मरीजों की कतार कम नहीं हो रही है। चिकनगुनिया के लक्षण के साथ बुखार की शिकायत लेकर अब गढ़ा, गोहलपुर, अधारताल के अलावा गोरखपुर, राइट टाउन, सिविल लाइंस से भी मरीज आ रहे हैं। प्रतिदिन औसतन 50 से अधिक संदिग्ध मरीजों के खून के नमूने जांच के लिए आइसीएमआर भेजे जा रहे हैं। सीएमएचओ डॉ. मुरली अग्रवाल के अनुसार स्थिति नियंत्रण में है।

कचरे का निष्पादन नहीं होने से बिगड़े हालात -
आम नागरिक मित्र फाउंडेशन के सदस्यों ने मंगलवार को कलेक्टर छबि भारद्वाज से मुलाकात कर ज्ञापन सौंपा। अस्पतालों और स्लाटर हाउस के जैविक कचरे का उचित प्रबंधन कराने की मांग की है। फाउंडेशन का आरोप है कि गोहलपुर और अधारताल क्षेत्र में गंदगी के कारण मौसमी बुखार का संक्रमण तेजी से फैला है। साफ-सफाई के साथ ही बीमारियों की रोकथाम के लिए उचित कार्रवाई की मांग की है।

Ad Block is Banned