परीक्षा पर उडऩ दस्तों और कंट्रोल रूम से रखी जाएगी नजर

हाईस्कूल एवं हायर सेकेंडरी बोर्ड परीक्षा को लेकर विभाग कर रहा कवायद, अंतिम रूप देने में जुटे विभाग के अधिकारी

-2मार्च से परीक्षा
-107 परीक्षा केंद्र
-14 संवेदनशली परीक्षा केंद्र
-260 परीक्षा बल की जरूरत
-09 फ्लाइंग स्क्वाड का गठन
-02 डीईओ स्तर पर दल गठित

जबलपुर।

हाईस्कूल एवं हायर सेकेंडरी बोर्ड परीक्षा के दिन नजदीक आने के साथ ही परीक्षा इंतजामों को लेकर शिक्षा विभाग के अधिकारी हरकत में आ गए हैं। जिले स्तर पर परीक्षाओं को अंतिम रूप देने के लिए विभाग तैयारियों में जुट गया है। परीक्षा पर निगरानी व्यवस्था तगड़ी करने पर विभाग के अफसर जोर देने में लगे हैं। परीक्षाओं की निगरानी के लिए जहां जिलेस्तर पर कंट्रोलरूम स्थापित किया जाएगा तो वहीं फील्ड के अधिकारी भी मौके पर जाकर नजर रखेंगे। विदित हो कि बोर्ड परीक्षा 2 मार्च से शुरू होने जा रही हैं।

पुलिस प्रशासन से मांगा बल

जिले के परीक्षा केंद्रों में सुरक्षा व्यवस्था के लिए करीब 260 पुलिस बल की आवश्यकता होगी। सबसे ज्यादा अमला संवेदनशील केंद्रों में लगेगा। 14 संवेदनशील केंद्रों में करीब 70 पुलिस कर्मियों की आवश्यकता होगी। जबकि 93 केंद्रों में करीब 190 पुलिस कर्मियों की आवश्यकता होगी। संवेदनशील केंद्रों में पुलिस बल उपलब्ध कराने के लिए पुलिस प्रशासन से बल मांगा गया है जबकि बाकी केंद्रों में केंद्राध्यक्ष स्थिति के अनुसार बल मंगाएगे।

डीईओ और विकासखंड स्तर पर दल

परीक्षाओं पर नजर रखने के लिए जिलेस्तर पर 9 फ्लाइंग स्क्वाड गठित की जाएगी। जिसमें 7 फ्लाइंग स्क्वार्ड हर विकासखंड स्तर के परीक्षा केंद्रों पर नजर रखेगी। जबकि जिला शिक्षा अधिकारी स्तर पर 2 फ्लाइंग स्क्वाड का गठन किया जाएगा जो कि जिले के सभी केंद्रों पर नजर रखेगी। इन फ्लाइंग स्क्वाड में तेज तर्रार महिला और पुरुष शिक्षकों को रखा जाएगा। इसके अलावा प्रशासनिक स्तर पर दलों का गठन कलेक्टर द्वारा किया जाएगा।

कंट्रोल रूम से रखेंगे नजर

कंट्रोल रूम के माध्यम से भी नजर रखी जाएगी। जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय के नए भवन में कंट्रोल रूम बनाया जाएगा। यहां परीक्षा प्रभारी के साथ ही सहायकों की पदस्थापना की जा रही है। कंट्रोल रूम में करीब 4 से 5 लोगों को पदस्थ किया जाएगा संभवत: अगले कुछ दिनों में यह तैयार हो जाएगा।

-बोर्ड परीक्षा को लेकर आवश्यक तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। संवेदनशील केंद्रों में पुलिस बल की मांग प्रशासन से की गई है।

-सुनील नेमा, जिला शिक्षा अधिकारी

Mayank Kumar Sahu Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned