एमपीवी की क्षमता से अधिक था विस्फोटक, ओएफबी कराएगा जांच

mukesh gour

Publish: Mar, 15 2018 06:15:00 AM (IST)

Jabalpur, Madhya Pradesh, India
एमपीवी की क्षमता से अधिक था विस्फोटक, ओएफबी कराएगा जांच

सुकमा नक्सली हमला...ऑर्डनेंस फैक्ट्री बोर्ड के चेयरमैन ने कहा-जांच के लिए कमेटी का गठन किया जाएगा।

जबलपुर. छत्तीसगढ के सुकमा में नक्सलियों के द्वारा आइइडी में विस्फोट से उड़ाए माइन प्रोटेक्टेड वीकल (एमपीवी) की जांच आयुध निर्माणी बोर्ड (ओएफबी) भी कराएगा। इसके लिए कमेटी गठित की जाएगी। यह कमेटी जल्द ही जांच शुरू करेगी। यह जानकारी ओएफबी के चेयरमैन एवं डायरेक्टर जनरल एसके चौरसिया ने बुधवार को पत्रिका से विशेष बातचीत में दी। उनका कहना था कि यह बेहद दुखद घटना है।


बोर्ड चेयरमैन ने बताया कि इस घटना में प्रथम दृष्टया सीमा से ज्यादा विस्फोटक इस्तेमाल होना प्रतीत हो रहा है। इसलिए वाहन में किसी तरह की कमी की बात है तो वह सही नहीं है। अलग-अलग बिंदुओं से पता चला है कि इसमे नक्सलियों द्वारा करीब 50 किलो बारूद इस्तेमाल किया गया है। हमारी निर्माणियों में बने एमपीवी की क्षमता टायर के नीचे 14 एवं हल के नीचे 10 किलो टीएनटी को सहने की होती है।


अभी यह भी स्पष्ट नहीं हो सका है कि दुर्घटनाग्रस्त वाहन का निर्माण कहां हुआ है। बोर्ड इसकी जांच करवा रहा है। अधिकारियों एक कमेटी बनाई जा रही है। जांच में कई तरह की चीजें पता की जाएंगी। सतर्कता की दृष्टि से भी यह जरुरी है। कमेटी की जांच रिपोर्ट के आधार पर आगे कार्रवाई की योजना बनाई जाएगी। उन्होंने बताया कि वीकल फैक्ट्री में एमपीवी को मॉडिफाइड करने का काम किया जा रहा है। यह मौजूदा वाहन से उन्नत एवं शक्तिशाली होगा।

वीएफजे से जुड़े तथ्य

7०० से ज्यादा वाहन बने : वीएफजे में अब तक ७०० से अधिक माइन प्रोटेक्टिड वीकल का निर्माण हुआ।

इनको होती है सप्लाई : सेना, अर्धसैनिक बल, छत्तीसगढ़, बिहार, झारखंड, महाराष्ट्र और आईटीबीटी को।

वाहन की क्षमता : टायर के नीचे १४ किलो और हल के नीचे १० किग्रा टीएनटी का विस्फोट सहन करने की है इसकी क्षमता।

वाहन की कीमत : सेना के लिए करीब १.१० करोड़ और अर्धसैनिक बलों के लिए ९० लाख से एक करोड़ रुपए तक।

बैठक व्यवस्था : एक वाहन में हथियारों से लैस आठ से दस सैनिक हो सकते हैं सवार।

अभी इतना है लक्ष्य : वीएफजे के पास अभी २९४ से ज्यादा वाहनों के उत्पादन का है लक्ष्य।

 

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned