सावधान: बाजार में चल रहे 2000 के लाखों नकली नोट, एसटीएफ का बड़ा खुलासा

पकड़ा गया शातिर आरोपी, कई जिलों में थी नकली नोटों की सप्लाई, मार्केट में खफा दिए करोंडों के नकली नोट

By: Premshankar Tiwari

Published: 13 Mar 2018, 07:41 PM IST

जबलपुर। आपके हाथ में मौजूद 2000, 500 या 100 रुपए का चमकदार नोट नकली भी हो सकता है। यह हम नहीं कह रहे बल्कि खुद पुलिस ने इसकी आशंका जाहिर की है। दरअसल एसटीएफ ने नकली नोट छापने और उनकी सप्लाई करने वाले बड़े गिरोह को पकड़ा है। गिरोह के सरगना जेपी नगर रीवा निवासी प्रदीप कुमार सोनी ने स्वीकार किया है कि उसके गिरोह के सदस्य नकली नोट छापकर कई जिलों में इसकी सप्लाई करते थे। गिरोह के सदस्यों के पास से 90 हजार रुपये के नकली नोट एवं नोट बनाने की सामग्री भी जब्त की गई है।

ऐसे चल रहा था गोरखधंधा
एसटीएफ जबलपुर प्रभारी हरिओम दीक्षित के अनुसार विभाग को सूचना मिली कि रीवा का एक युवक नकली नोट छापकर उसकी मार्केट में सप्लाई करता है। गिरोह में सतना, रीवा, कटनी के भी कई युवक शामिल हैं। एसटीएफ के एसपी कमलेश खरपुशे के निर्देशन में टीम ने छानबीन शुरू की तो चौंकाने वाले तथ्य सामने आए। टीम ने जेपी नगर रीवा निवासी प्रदीप कुमार सोनी को गिरफ्तार किया। उसके पास से भारी मात्रा में 2000 और 500 के नकली नोट बरामद किए गए। आरोपी ने स्वीकार किया कि यह गोरखधंधा योजनाबद्ध तरीके से चल रहा था। कार्रवाई में एसटीएफ के रघुबीर सिंह, निर्मल सिंह, मनीष तिवारी, दिलावर, प्रभात सिंह, ओमप्रकाश आदि शामिल रहे। टीम कटनी एवं सतना में भी छानबीन शुरू की, अभी कई आरोपित फरार हैं।

हू-ब-हू असली दिखते हैं नोट
एसटीएफ जबलपुर प्रभारी दीक्षित के अनुसार प्रदीप के पास से नकली नोट के कागज एवं स्कैनर समेत अन्य सामग्री बरामद की गई है। प्रारंभिक पूछताछ में यह बात सामने आयी है कि प्रदीप सोनी का गिरोह अब तक रीवा, कटनी और सतना में ही 2000 और 500 के कई करोड़ नकली नोट खपा चुका है। इसकी सप्लाई कई जिलों में है। सौ रुपये के नकली नोटों की क्वालिटी तो अच्छी है कि आम आदमी जब तक बारीकी से जांच नहीं करे तब तक पता नहीं चल सकता है कि 100 रुपये का नोट नकली है। जब एसटीएफ की टीम ने दोपहर के वक्त रीवा की जेपी कॉलोनी में प्रदीप कुमार सोनी के घर पर छापा मारा तो उसके घर से 90 हजार रुपये के नकली नोट बरामद हुए। टीम द्वारा प्रदीप से पूछताछ की जा रही है।

शराब दुकानों के जरिए खपाए नोट
पुलिस के अनुसार पूछताछ में यह बात सामने आयी है कि रीवा से प्रदीप कुमार सोनी द्वारा पिछले दो साल से नकली नोटों की सप्लाई की जा रही है। उसके द्वारा शराब के अड्डों व पेट्रोल पम्पों के जरिए नकली नोटों की सप्लाई की जा रही थी। इन अड्डों पर 40 रुपये के असली नोट के बदले 100 रुपये का नोट सप्लाई किया जाता था। वह 2000 और 500 के भी नकली नोट बनाता था।

Premshankar Tiwari Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned