OMG: मंडला रूट पर गुपचुप तरीके से 20 रुपए बढ़ा दिया किराया

बस ऑपरेटर्स की मनमानी : किराया निर्धारण समिति की अनुमति के बिना बढ़ाया किराया, शहर के अंदर से हो रहा संचालन

By: santosh singh

Published: 11 Dec 2017, 01:04 AM IST

जबलपुर. दीनदयाल चौक स्थित आईएसबीटी से मंडला रूट पर चलने वाली बसों में गुपचुप तरीके से यात्रियों की जेब काटी जा रही है। बस ऑपरेटर्स ने शासन स्तर पर गठित किराया निर्धारण समिति की अनुमति के बिना किराया २० रुपए बढ़ा दिया है। यात्रियों से १०० रुपए की जगह १२० रुपए वसूले जा रहे हैं। अपनी मनमानी को छिपाने के लिए यात्रियों को दो किराया टिकट दिए जा रहे हैं। एक टिकट आईएसबीटी से एम्पायर टॉकीज तक जाने का २० रुपए और दूसरी टिकट में एम्पायर टॉकीज से मंडला तक की दूरी का जिक्र किया जाता है।

जानकारी के अनुसार जबलपुर से मंडला की दूरी लगभग ९८ किमी है। इस रूट पर लगभग ८० बसों का संचालन होता है। तीन पत्ती चौक से मंडला रूट की बसों की आईएसबीटी में शिफ्टिंग के बाद से ऑपरेटर्स दूरी का हवाला देकर किराया बढ़ाने की मांग कर रहे थे। उस समय डीजल के दाम अधिक थे। वर्तमान में डीजल के दाम पांच रुपए कम होने के बाद भी ऑपरेटर करीब एक सप्ताह से यात्रियों से २० रुपए अधिक किराया ले रहे हैं। यात्रियों के आपत्ति करने पर शासन का हवाला देकर चुप करा देते हैं। मंडला रूट पर प्रतिदिन लगभग पांच हजार लोग बसों से सफर करते हैं।

कटनी रूट पर भी मनमानी

जबलपुर से कटनी के बीच आईएसबीटी से संचालित बसों का भी यही हाल है। बस चालक कटनी से सवार हुए यात्रियों को दमोहनाका में उतार देते हैं। यदि कोई यात्री आईएसबीटी जाने के लिए कहता है तो यह कहकर उतार दिया जाता है कि बस दमोहनाका तक ही जाएगी।

ये है नियम

बसों का किराया निर्धारित करने के लिए शासन स्तर पर किराया निर्धारण समिति गठित गठित की गई है। इसमें सीएम, परिवहन मंत्री, परिवहन आयुक्त, नामित बस एसोसिएशन के सदस्य शामिल होते हैं। बस ऑपरेटर्स किराया बढ़ाने की मांग बस तर्क सहित आरटीओ से करते हैं। आरटीओ सम्भागीय उप-परिवहन आयुक्त के माध्यम से समिति को पत्र भेजते हैं। इसके बाद समिति किराया बढ़ाने की अनुमति देती है।


मंडला रूट पर किराया बढ़ाने की जानकारी नहीं है। बस ऑपरेटर्स ने किस नियम के तहत किराया बढ़ाया है, इसका परीक्षण कराएंगे। यदि बिना अनुमति किराया बढ़ाया है तो कार्रवाई होगी।

महेशचंद चौधरी, कलेक्टर

santosh singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned