सर्किट हाउस में युवक कांग्रेस की सदस्यता फॉर्म में लगी आग, देर रात तक चला हंगामा

सर्किट हाउस में युवक कांग्रेस की सदस्यता फॉर्म में लगी आग, देर रात तक चला हंगामा

reetesh pyasi | Publish: Mar, 15 2018 06:00:00 AM (IST) Jabalpur, Madhya Pradesh, India

मौके पर शराब की बोतल व सिगरेट भी मिले, पर्यवेक्षक पर उठाए सवाल

जबलपुर। सर्किट हाउस क्रमांक 2 के कमरा नं 3 में बुधवार की रात युवक कांग्रेस चुनाव सदस्यता फॉर्म में आग लग गई। आग लगने के बाद हंगामा की स्थिति निर्मित हो गई। युंका नेताओं ने पर्यवेक्षक पर संगीन आरोप लगाए। वे जमकर भड़क गए। उनका आरोप है कि पर्यवेक्षक धीरज बडनखे के सामने फार्म जलाए गए हैं। बड़ी संख्या में पुलिस बल मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने सर्किट हाउस प्रशासन से सीसीटीवी फुटेज मांगे हैं। घटना स्थल सील कर दिया गया है।
फार्म भरने की प्रक्रिया का आखिरी दिन था-
युवक कांग्रेस पदाधिकारियों के चुनाव के लिए सदस्यता फार्म भरने की प्रक्रिया का आखिरी दिन था। इसके लिए प्रति आवेदन फार्म 125 रुपए जमा कराए गए थे। सदस्यता प्रक्रिया पूरी होने के बाद जिलाध्यक्ष, विधानसभा व अन्य पदाधिकारियों के निवार्चन होना था। सर्किट हाउस के कक्ष क्र.3 में फार्म रखे थे। यह फार्म विधायक नीलेश अवस्थी के नाम पर आवंटित है। यहां कांग्रेस के पर्यवेक्षक धीरज ठहरे हुए थे।

29 हजार फार्म जमा किए गए-
कार्यकर्ताओं का कहना है कि 29 हजार के लगभग फार्म जमा किए गए थे। जिनको लेकर पर्यवेक्षकों को भोपाल जाना था। फॉर्म के साथ ही सदस्यता शुल्क जमा कराई गई। हंगामे के दौरान युवक कांग्रेस नेता बड़ी रकम लेन-देन के आरोप भी लगा रहे है। वहीं चर्चा है कि फॉर्म के साथ ही तीस लाख रुपए के लगभग रकम भी थी। हालांकि इसकी पुष्टि नहीं की जा रही है।

ये पहुंचे मौके पर-
देर रात तक हंगामा जारी रहा मामले को बढ़ता देख देर रात कांग्रेस के नगर अध्यक्ष दिनेश यादव मौके पर पहुंचे और पर्यवेक्षकों से चर्चा की। वे अपनी रिपोर्ट एआईसीसी को भेजेंगे। सूत्रों के गुरूवार को मामले का सच जानने एआईसीसी के कुछ पदाधिकारी दिल्ली से भी आ सकते हैं। मौके पर शशांक दुबे, अमरीश मिश्रा, रत्नेश अवस्थी, एकता ठाकुर, विजय रजक समेत बड़ी संख्या में कार्यकर्ता मौजूद थे।

आग कैसे लगी यह जांच का विषय है। लगभग दस फीसदी फॉर्म जल गए हैं और कुछ पानी में गीले हो गए हैं। पुलिस जांच कर रही है।
दिनेश यादव, अध्यक्ष, नगर कांग्रेस कमेटी

Ad Block is Banned