कोरोना का खौफ, विदेश घूमने वाले घरों में दुबके, पासपोर्ट का ग्राफ भी गिरा

कोरोना का खौफ, विदेश घूमने वाले घरों में दुबके, पासपोर्ट का ग्राफ भी गिरा

 

By: Lalit kostha

Published: 21 Apr 2021, 12:53 PM IST

जबलपुर। पासपोर्ट बनवाने के लिए पीओपीएसएके (डाकघर पासपोर्ट सेवा केन्द्र) द्वारा जारी किए जाने वाले अप्वाइंटमेंट की संख्या तो बढ़ गई है, लेकिन संख्या के अनुपात में आवेदक पीओपीएसके नहीं पहुंच रहे हैं। इनकी संख्या न के बराबर हो गई है। जानकारों की मानें तो कोरोना के नए स्टे्रन के आने और दोबारा लॉकडाउन होने के बाद लोग अपनी विदेश यात्राएं रद्द कर रहे हैं। नए पासपोर्ट भी नहीं बनवा रहे हैं। कोरोना संक्रमण के पूर्व जबलपुर स्थित पीओपीएसके में पासपोर्ट बनवाने के लिए एक माह से अधिक की वेटिंग होती थी। वर्तमान में महज छह दिन के भीतर ही अप्वाइनमेंट मिल रहे हैं। माना जा रहा है कि 26 अप्रेल से पीओपीएसके फिर से खुल सकता है और पासपोर्ट बनाने का काम शुरू हो सकता है।

पासपोर्ट का ग्राफ गिरा: अभी यही हालात रहने के आसार
कोरोना संक्रमण बढ़ा तो विदेश भ्रमण करने वाले भी हुए कम

27 जुलाई से खुला, आधी हुई संख्या
डाकघर स्थित पासपोर्ट सेवा केन्द्र को 27 जुलाई को एक बार फिर खोला गया था। सेवा केन्द्र द्वारा हाल ही में पीओपीएसके में प्रतिदिन 80 अप्वाइंटमेंट लेने की प्रक्रिया को अनुमति दे दी, लेकिन इनका ग्राफ एकाएक कम हो गया है। जानकारों की मानें तो दो से तीन माह तक यही स्थिति रह सकती है।

यह है स्थिति
2020 मार्च में बंद कर दिया गया था पीओपीएसके
27 जुलाई 2020 से पीओपीएसके फिर से किया गया शुरू
40 अप्वाइंटमेंट थे प्रतिदिन
01 माह तक की थी वेटिंग
80 अप्वाइंटमेंट किए गए जनवरी में
08 दिन में मिल रहे थे अप्वाइंटमेंट
26 अप्रेल से अप्वाइंटमेंट
80 अप्वाइंटमेंट हैं प्रतिदिन

Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned