ये लड़की बना रही ऐसी हड्डियां, जो टूटने का नाम नहीं लेंगी... राज भी है ख़ास

  ये लड़की बना रही ऐसी हड्डियां, जो टूटने का नाम नहीं लेंगी... राज भी है ख़ास

लेह-लद्दाख के लिए जबलपुर में हो रहा रिसर्च, गवर्नमेंट साइंस कॉलेज के कैमिस्ट्री डिपार्टमेंट में तीन मेजर प्रोजेक्ट

नूपुर महावर@जबलपुर। शहर की तीन बेटियों के हाथ में तीन मेजर प्रोजेक्ट्स पर रिसर्च की जिम्मेदारी है। यह रिसर्च गवर्नमेंट साइंस कॉलेज के रसायनशास्त्र विभाग में चल रही है। दो रिसर्च लेह-लद्दाख से जुड़ी है। शहर के रिसर्च स्कॉलर शोध के क्षेत्र में अच्छा काम कर रहे हैं। तमाम बड़ी मशीनों की उपलब्धता और बेहतर मार्गदर्शन के कारण देश के बड़े रिसर्च इंस्टीट्यूट शहर को चुन रहे हैं। गवर्नमेंट साइंस कॉलेज की बोस मेमोरियल लैब में तीन मेजर प्रोजेक्ट पर काम हो रहा है, जिसकी बागडोर तीन लड़कियों के हाथ में है। डॉ. एके वाजपेयी ने बताया कि दो रिसर्च लेह-लद्दाख के लिए है, जहां पर पानी की अशुद्धि को दूर करने तथा सॉइल न्यूट्रीएंट्स बढ़ाने संबंधी रिसर्च की जा रही है। एक अन्य रिसर्च मेडिकल फील्ड से जुड़ी है, जिसमें आर्टिफिशियल बोन बनाने के लिए नैनो पार्टिकल पॉलीमर तैयार किया जा रहा है। 


 artificial bones for surgery


सर्जरी के लिए बोन बनाना
प्रोजेक्ट- काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च  (सीएसआईआर)
रिसर्च स्कॉलर- रश्मि चौबे
ग्रांट- 30 लाख 
मेडिकल फील्ड में मदद के लिए शहर की रश्मि चौबे रिसर्च कर रही हैं। सीएसआईआर के प्रोजेक्ट पर काम रहीं रश्मि ने बताया कि वे एेसे बोन बना रही हैं, जो एंटी माइक्रोबियल हों। यह आर्टिफिशियल बोन सिल्वर नैनो पार्टिकल्स पॉलीमर द्वारा तैयार किए जा रहे हैं। अब तक जिन आर्टिफिशियल बोन्स का उपयोग किया जा रहा है, वह लॉन्ग टाइम पीरियड में न होकर जल्दी डी-कम्पोस्ड हो जाती हैं। इस रिसर्च में तैयार की जा रही बोन लॉन्ग टाइम के लिए रहेंगी। इस रिसर्च के लिए सीएसआईआर द्वारा 30 लाख रुपए की ग्रांट प्राप्त हुई है। 


 artificial bones for surgery

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned