Bus सरकार ने दिया आश्वासन, टैक्स होगा माफ, फिर भी यहां से नहीं चलीं बसें

आईएसबीटी पड़ा रहा सूना

By: virendra rajak

Published: 05 Sep 2020, 08:15 PM IST

अब ड्राइवर, कंडक्टर और हेल्परों ने शुरू कर दी हड़ताल
जबलपुर. शहर से शनिवार को बसों का संचालन नहीं हो सका। अधिकतर ऑपरेटर्स ने बसों को आइएसबीटी पर निर्धारित स्थान पर लगाया ही नहीं। कुछ ने यह कहकर बसों का संचालन नहीं किया कि यात्री नहीं हैं, तो कुछ आरटीओ कार्यालय में जमा दस्तावेजों का हवाला देते रहे। दूसरी ओर बस ड्राइवर, कंडक्टर और हेल्पर भी शनिवार से हड़ताल पर चले गए। वे सरकार से लॉकडाउन की अवधि में विशेष भत्ता देने की मांग कर रहे हैं।

बुकिंग की रद्द

सुबह के वक्त जबलपुर से सागर, डिंडौरी और कटनी के लिए बसें आइएसबीटी में खड़ी की गई। तीनों ही जगहों के लिए एक-एक बस स्टैंड में लगी। लेकिन, डिंडौरी और कटनी के लिए एक भी सवारी नहीं मिली, जबकि सागर जाने वाली बस में तीन सवारियों ने बुकिंग कराई, जिसे ऑपरेटर ने बाद में रद्द कर दिया।

विशेष मानदेय की मांग

बस ड्राइवर, बस कंडक्टर और हेल्पर सरकार से विशेष राहत पैकेज की मांग कर रहे हैं। ड्राइवर राजेश सेन ने कहा कि सरकार ने ऑपरेटर्स की बसों का टैक्स माफ कर दिया, लेकिन ड्राइवर, कंडक्टर और हेल्पर को कोई राहत नहीं दी। उन्होंने सरकार से लॉक डाउन की अवधि में विशेष पेमेंट पैकेज घोषित करने की मांग की है।
वर्जन
कुछ ऑपरेटर्स ने सरेंडर परमिट उठाने के लिए आवेदन दिए हैं। आवेदन मिलते ही उन्हें उनके परमिट वापस किए जा रहे हैं।
संतोष पॉल, आरटीओ
बसों का संचालन शुरू हो गया है। सोमवार से बसों की संख्या बढ़ाई जाएगी। सरेंडर परमिट उठाने की प्रक्रिया ऑपरेटर्स कर रहे हैं।
संजय शर्मा, प्रवक्ता, आइएसबीटी बस ऑपरेटर्स एसोसिएशन

BJP
Show More
virendra rajak Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned