scriptgovernment schemes have changed villagers lifestyle | इस सरकारी स्कीम से बदल रही सैकड़ों महिलाओं-युवाओं की जिंदगी | Patrika News

इस सरकारी स्कीम से बदल रही सैकड़ों महिलाओं-युवाओं की जिंदगी

इस सरकारी स्कीम से बदल रही सैकड़ों महिलाओं-युवाओं की जिंदगी

 

जबलपुर

Updated: March 05, 2022 08:27:22 am

जबलपुर। ग्रामीण उद्योग एवं उद्यमिता संवर्धन स्कीम (एस्पायर) आदिवासी अंचल के लोगों की जिंदगी में बदलाव का जरिया बन रही है। अनूपपुर जिले में ग्रामीण महिलाएं और युवा व्यावसायिक दक्षता के साथ कोदो उत्पादन, संकलन और प्रसंस्करण कर रहे हैं। वे इनके जरिए आमदनी बढ़ाने के साथ नाम भी कमा रहे हैं। उनके उत्पादों को स्थानीय कलेक्टर की मदद से जबलपुर और शहडोल जैसे कई अन्य शहरों के मार्केट में डीलर के ज़रिए पहुंचाया जा रहा है।

flower farming
demo pic

मोटे अनाज के उत्पाद को मिला मार्केट
आदिवासी अंचल के उत्पादों से हो रहा स्थानीय लोगों की आजीविका में सुधार

उत्पादन से जुड़ी महिलाओं कहना है- ‘हमने सोचा नहीं था कि गऱीबों का अनाज कभी शहरों तक भी पहुंचेगा।’ स्वाद और पौष्टिकता से भरपूर कोदो ने उनकी आमदनी को मजबूत किया है। इससे आदिवासी अंचल की महिलाओं में आत्मबल और नवाचार के लिए प्रेरणा भी मिली है।

लक्ष्मी स्व-सहायता समूह की अध्यक्ष मायावती ने बताया कि तीन वर्ष पहले तक इस अनाज की बहुत कम मांग थी। आत्मा परियोजना से मिल की स्थापना तो आठ-दस साल पहले हुई, लेकिन खरीदार नहीं मिलते थे। जब से नोडल एजेंसी के तौर पर ब्रांडिंग और मार्केटिंग के लिए अमरकंटक विश्वविद्यालय का सहयोग मिला, उत्पाद को नई पहचान मिल गई। आमदनी भी दोगुना से ज्यादा हुई। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय एमएसएमई के एलबीआई प्रशिक्षण केंद्र के समन्यवयक प्रो. आशीष माथुर ने बताया कि तीन साल पहले महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर पुष्पराजगढ़ के बहपुरी गांव की महिलाओं के समूह ने कोदो अनाज को ब्रांड के रूप में लाया। विश्वविद्यालय और जिला प्रशासन ने लक्ष्मी और सतगुरु समूह के साथ मिलकर पौष्टिक अनाज को एक ब्रांड के रूप में बाजार में उतारा।

बढ़ा हेल्थ के प्रति क्रेज
विश्वविद्यालय के कुलपति प्रकाश मणि त्रिपाठी ने बताया कि लोगों में स्वास्थ के प्रति जागरुकता बढ़ी है। कोदो में कई लाभकारी तत्व हैं जो ग्राहकों को अपनी ओर आकर्षित करते रहे हैं। इसकी सुलभ उपलब्धता नहीं होने से न सिर्फ लोगों को बल्कि किसानों को भी नुकसान हो रहा है। विवि के आजीविका व्यापार केंद्र के जरिए ग्रामीण महिलाओं को इसकी मार्केटिंग के साथ ब्रांडिंग भी सिखाई। अमरकंटक क्षेत्र का शहद विशेष गुणों से आच्छादित है। शहद संग्रहण, मधुमक्खी पालन और मार्केटिंग व ब्रांडिंग से महिलाओं को जोडऩे का प्रयास किया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: राजस्थान ने बैंगलोर को 7 विकेट से हराया, दूसरी बार IPL फाइनल में बनाई जगहपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.